एलोवेरा के गुणकारी लाभ उपयोग और सेवन की विधि

एलोवेरा, गँवार पाठा या घृत कुमारी हमारे भारतीय जीवन में हमेशा से एक बहुत ही महत्त्व पूर्ण स्थान रखता आया है । यह स्वास्थ्यवर्धक , सौंदर्यवर्धक तथा रोगनाशक गुणों से भरपूर है। अनादिकाल से यह उपयोग में रहा है क्योंकि यह बिना किसी दुष्परिणामों के बहुत सी बीमारियों को दूर कर देता है। जो अच्छी से अच्छी ओर महँगी से महंगी दवाये भी नहीं कर पाती। सारा साहित्य इसके गुणों से भरा पड़ा है। इसके जादुई तत्वों का असर दादी माँ के नुस्ख़ों में छिपा है। आयुर्वेद में इसको चरक संहिता में बड़े विस्तार से समझाया गया है,  त्वचा पर इसके चमत्कारिक प्रभाव तो सबको मालूम ही हैं। मुँहासों, जले कटे पर इसको लगाना एक आम बात है, खून को साफ़ करने  में तथा यह नेत्रों के लिए भी  काफी हितकारी और लाभप्रद है।

आखिर एलोवेरा में ऐसा है क्या? aloe vera medical uses in hindi

घृत कुमारी एक काँटेदार पौधा है जो चारो ओर से पानी और मिट्टी के खनिज को अपने में समेटे रखता है और औषधि के गुण से परिपूर्ण है। इससे विभिन्न प्रकार के सौंदर्य लेप बनाए जाते हैं ।  ऐलोवेरा में वो सारे गुण समाहित हैं जिसके कारण इसको संजीवनी बूटी भी कहा जाता है ।

यह ऐसे स्थानों पर पैदा होता है जहाँ पानी की अत्यधिक कमी होती थी और अपने अस्तित्व को बनाए रखने के लिए इसको मिट्टी में से पानी और मिनरल्ज़ किसी भी तरह खिंचना होता है। यदि इसको बहुत लम्बे समय तक भी पानी ना मिले तो भी यह ज़िंदा रहता है । इसकी यही हिम्मत इसे कालजयी बनाती है।

रेगिस्तान , उजड़े ओर कठिन स्थानों में ज़िंदा रह पाने की हिम्मत जिन प्राकृतिक अवयवो से आती है वे ही हमारी बीमारियों को ठीक करने में काम आते हैं . इसकी बहुत से प्रजातियाँ होती हैं लेकिन उनमे से केवल एलोवेरा बर्बेंडिस ही खाने के लिए काम में लाया जाता है । घृतकुमारी में बहुत से मिनरल अमीनो ऐसिड  और विटामिन  पाए जाते हैं   उनमें से कुछ तो ऐसे तत्व हैं जो कई अन्य  में आसानी  से नहीं मिलते इसका महत्व इस बात से ही समझा जा सकता है की पुराने समय में यह एक ही पौधा गाँव का हकीम या डॉक्टर होता था और कुछ भी बीमारी होने पर इसी का रस, लेप, काढ़ा आदि का उपयोग किया जाता था। सब्ज़ी या मोदक देकर मरीज़ को ठीक कर दिया जाता था।  राजस्थान में  अभी भी इसकी सब्ज़ी बना कर खाते हैं और गँवार पठे के लड्डू भी बनाए जाते हैं  जो अत्याधिक ताकतवर माने जाते हैं। और तो और इसमे पाया जाने वाला अलोईंन जो की जूस में अच्छा नहीं माना जाता वो भी क़ब्ज़ ख़त्म करने के काम आता है.

एलोवेरा के प्रमुख गुण benefits of aloe vera

  • रोगप्रथिरोधक।

 

  • त्वचा की मृत कोशिकाओं को दोबारा जीवित करता है और रक्त को साफ़ करता है और उसके प्रवाह को सुचारू बनाता है।

 

  • इसमें पाए जाने वाले ऐंटिसेप्टिक एंटीबायोटिक गुण हमारे शरीर से ज़हरीले पदार्थ निकालकर अंदरूनी सफ़ाई करता है।

 

  • यह लिवर और हृदय को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है।

 

  • रक्त की वसा जिसे हम कोलेस्ट्रॉल भी कहते है। उसके ख़राब वसा को कम करने में सहायता करता है।

 

सेवन की विधि

रोज़ २ चम्मच नियमित रूप से पीने पर यह शरीर के सभी विकारों से मुक्त करता है और आप ताज़गी  का अहसास पाएँगे।

ऐलोवेरा सच में प्राण दायक है। इसे हर घर में उगाना चाहिए जिससे शुद्ध जेल आसानी से मिल सके। ऐलो वेरा के बने उत्पाद बाज़ार में बड़ी मात्रा में उपलब्ध हैं लेकिन उन्हें बहुत ठीक से देख कर ही खरीदें। ऐलो वेरा को निम्नलिखित विधियों को उपयोग में लाएँ।

  1. स्फूर्थी और पाचन तन्त्र को ठीक रखने के लिए प्रत्येक दिन सुबह बिना कुछ खाए लगभग ५० ग्राम , पानी में मिला कर पिएँ। यदि स्वाद की परेशानी हो तो उसमे शहद मिला सकते हैं या फिर आवॉले का रस भी मिला सकते हैं लेकिन किसी भी हालत में एलो वेरा के मीठे रस , जो की बाज़ार में भरे पड़े हैं , ना पिएँ।
  2. त्वचा को ठीक रखने के लिए ऐलोवेरा की जेल लगाएँ । उसे घर पर भी बना सकते हैं उसमें शहद , बादाम का तेल और निम्बू डालकर या फिर कोई अच्छा प्रोडक्ट लें ।
  3. बालों को ठीक रखने के लिए ऐलोवेरा का रस धोने के बाद लगाए और थोड़ी देर बाद उसको धो दें इससे बाल चमकदार हो जाएँगे एलोवेरा युक्त शैम्पू भी उपयोग में ला सकते हैं।

 

लेकिन स्त्रियों को इसके रस का सेवन डॉक्टर की सलाह से ही करना चाहिए। ख़ास तौर पर जो मॉ बनने वाली हैं, उन्हें इसे बिलकुल नहीं पीना चाहिए। एक और बात ऐलोवेरा के पूरे  लाभ के लिए आप अपनी दिनचर्या , खान पान की आदतें भी ठीक रखें नहीं तो इसका सेवन बेकार जाएगा।

 


यह स्वास्थ्य वर्धक लेख हमारे साथ शालिनी तिवारी जी ने शेयर किया है. हम इस लेख के लिए  उनका आभार प्रकट करते है

Author Image:

एलोवेरा

Author Name:  SHALINI TIWARI

Website: www.sarvliving.com

Blog: blog.sarvliving.com

Author Bio:

Shalini Tiwari is a passionate bio chemist with in depth knowledge in cosmetic chemicals. She has experience in usage of essential oils to enhance the USPs of cosmetic products.

loading...

She has studied in detail, natural cosmetic potions particularly aloe Vera which is panacea for skin ills. Her advice has relieved a no of boys and girls who had skin problems like acne, pigmentation, sun burns, hair greying & fall, and injury marks etc. SARV’s herbal cosmetic products based on aloe Vera where she is currently working clearly reflect her knowledge.

 

4 Comments

  1. Deepanshu Saxena 16/08/2017
  2. pankaj 17/08/2017
  3. Sumit 07/09/2017
  4. gurmeet 09/09/2017

Leave a Reply