अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के लक्षण कारण और इलाज़ ADHD in hindi

क्या आपके बच्चे को किसी काम में ध्यान लगाने में कठिनाई महसूस होती है?  क्या उसे   एक ही जगह पर टिक के रहने में परेशानी होती है? क्या उसके  व्यव्हार में असावधानी, हाइपरएक्टविटी और आवेग शामिल हैं। यदि उसे यह समस्याएं हैं और आपको लगता है कि यह उसके  दैनिक जीवन को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर रही  हैं, तो यह Attention deficit hyperactivity disorder (ADHD) का संकेत हो सकता है। जी हाँ यह एक मनोविज्ञानिक समस्या है जो आमतोर पर बच्चो में देखी जाती है लेकिन सही समय पर उपचार न मिलने के कारण यह किशोरावस्था  और व्यस्कों में भी देखी जा सकती  है.

 

क्या होता है अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर – Attention deficit hyperactivity disorder in hindi

 

Attention deficit hyperactivity disorder (ADHD) एक ऐसी स्थिति है जिसमें किसी व्यक्ति को अपने कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने में परेशानी होती है. इस विकार में व्यक्ति के लिए ध्यान देने  और अपने आवेगी व्यवहार/impulsive behaviors को नियंत्रित करने में  कठिनाई महसूस होती  है। वह या तो बेचैन/ restless  हो जाता है या लगभग लगातार सक्रिय/ active हो सकता है. आमतोर पर यह समस्या बचपन  में शुरू होती  है और किशोर अवस्था में भी जारी रहती है।

 

 

Symptoms of Attention deficit hyperactivity disorder in hindi – अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के लक्षण

 

 

Attention deficit hyperactivity disorder

 

 

आसानी से विचलित हो जाना , चीजें भूल जाना , और अक्सर एक काम को पूरा किया बिना ही दूसरे में लग जाना

 

एक काम पर फोकस बनाए रखने में कठिनाई होना

 

किसी कार्य को व्यवस्थित करने, पूरा करने या कुछ नया सीखने में कठिनाई होना

 

एक जगह पर टिककर ना बैठना

 

जरूरत से ज्यादा बोलना या बिना सोचे समझे कुछ भी करना या बोलना

 

मना करने पर भी गलत काम करते रहना

 

सवाल पूरा होने से पहले जवाब देना  या लगातार दखल देना

 

आसानी से भ्रमित हो जाना

 

दूसरों के मुकाबले  जल्दी और सटीक रूप से information processing करने में  कठिनाई होना

 

ये लक्षण आमतोर पर बच्चो में 7 से 12 साल की उम्र के आसपास देखे जाते है. साथ  ही यह  लक्षण बच्चे के जीवन  जैसे घर  और स्कूल में नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं.  रिसर्च के अनुसार, भारत में लगभग 1 से 12  प्रतिशत तक बच्चों में यह समस्या पाई जाती है.

 

 

Causes of of Attention deficit hyperactivity disorder (ADHD) in hindi – अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के कारण

 

एडीएचडी के सही कारण स्पष्ट नहीं है लेकिन मनोविज्ञानिको के अनुसार एडीएचडी के विकास में कई  कारक शामिल हैं जैसे:

 

genetics – आनुवंशिकी

शोध में पाया गया है की अगर परिवार में किसी को यह समस्या है तो आने वाले पीढ़ी में भी यह समस्या देखने को मिलती है.

 

Environment – पर्यावरण

आनुवंशिकी के अतिरिक्त, कई  पर्यावरणीय कारक एडीएचडी पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है ।  गर्भावस्था के दौरान माँ द्वारा शराब के सेवन से fetal alcohol spectrum disorders  हो सकता है जिसमें एडीएचडी या इसके जैसे लक्षण शामिल हैं।  कुछ जहरीले पदार्थों जैसे कि सीसा के संपर्क में आने से बच्चे, में एडीएचडी जैसी समस्याओं का विकास होता हैं.

 

Development

बच्चे के विकास के  महत्वपूर्ण क्षणों में  केंद्रीय तंत्रिका तंत्र में  समस्याएं भी  एडीएचडी के होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.

 

 

Treatment of Attention deficit hyperactivity disorder  in hindi –  अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर का इलाज

 

अगर आपको लगता है की आपके बच्चे में भी एडीएचडी के लक्षण है तो आपको मनोचिकित्सक का परामर्श जरुर लेना चाहिए ताकि  सही समय पर समस्या को control किया जा सके.

एडीएचडी के प्रबंधन के लिए कई प्रकार की मनोवैज्ञानिक पद्धतियों का सहारा लिया जाता है जैसे संज्ञानात्मक व्यवहार थेरेपी, पारस्परिक मनोचिकित्सा, फैमिली थेरेपी,  कौशल प्रशिक्षण आदि. साथ ही impulsivity  को कम करने और ध्यान केंद्रित करने की क्षमता को बढ़ाने के लिए कई प्रकार की दवाओ का इस्तेमाल भी मनोचिकित्सकों द्वारा किया जाता है.

 

 

उम्मीद करते है यह आर्टिकल आपके लिए  लाभकारी सिद्ध होगा. एडीएचडी के विषय में और अधिक जानकारी के लिए आप विशेषज्ञों की सलाह ले सकते है. अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो कृपया comments करें और साथ ही हमारे आने वाले सभी आर्टिकल्स को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री subscribe जरुर करें.

 

यह भी जाने 

जानिए डिस्लेक्सिया के बारे में A to Z Dyslexia management and treatment in Hindi

स्किज़ोफ्रेनिया के कारण लक्षण और इलाज़ schizophrenia in hindi

डिप्रेशन का मनोविज्ञान how to control and cure depression in Hindi

एकाधिक व्यक्तित्व विकार (mpd) के बारे में जाने

MANAGEMENT OF EXAMINATION STRESS – परीक्षा के समय कैसे करे दिमाग को तैयार

Leave a Reply