ayurvedic treatment for depression in hindi आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के इस्तेमाल से पाए डिप्रेशन से छुटकारा

इस बात में कोई शक नहीं है की डिप्रेशन तेजी से एक घंभीर समस्या बनता जा रहा है जिसके कारण आज ज्यादातर लोग चाहे वे बच्चे हो या बड़े चिंता, तनाव और अनिद्रा जैसे परेशानियों से पीड़ित हैं। शुरुआत में डिप्रेशन केवल रोजाना की  आम समस्याओं की तरह लग सकता है, लेकिन लंबे समय में ये चिंता का विषय बन सकता  हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मुताबिक, दुनिया भर में हो रही ज्यादातर बिमारियों का प्रमुख कारण अवसाद है। 2016-17 में भारत में अवसाद दर 36 प्रतिशत था ।

तेजी से बदलता लाइफस्टाइल, खानपान में लापरवाही और शारीरिक क्षम की कमी कुछ ऐसे कारण है जो जिसके कारण आज हर चोथा आदमी स्ट्रेस .का शिकार है. ऐसे में आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां और योगा आपकी मदद कर सकती है. ये तनाव के लक्षणों को को दूर कर हमारा मन शांत करती है. आज इस लेख में हम आपके साथ कुछ ऐसी Herbal Remedies के बारे में बताने जा रहे जिससे तनाव और डिप्रेशन के कई लक्षणों से छुटकारा पाया जा सकता है.

 

ayurvedic treatment of depression in hindi  – आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के इस्तेमाल से पाए डिप्रेशन से छुटकारा

home remedies for depression and stress in hindi

 

Ashwangandha – अश्वगंधा 

 

अश्वगंधा  में  स्टेरायडल लैक्टोन,  सैपोनिन, एल्कलॉइड जैसे सक्रिय यौगिकों की उपस्थिति होती है जिसे तनाव और चिंता को दूर करने के लिए जाना जाता है. ये एंटीडिप्रैंसेंट,  anti-inflammatory  और एंटी एंग्जायटी गुण प्रदान करते हैं। ये गुण भावनात्मक और शारीरिक थकान के कारण पैदा हुए  तनाव को कम करने में भी सहायता करते हैं. साथ ही यह लगातार हो रहे मूड स्विंग (मूड का बार बार बदलना) को संतुलित करते है और मानसिक सतर्कता, ध्यान और एकाग्रता को बढ़ाते  है। अश्वगंधा  का उपयोग इसके पाउडर के रूप में किया जाता  है।

 

अगर आप भी तनाव से पीड़ित है तो आप रोजाना एक चम्मच अश्वगंधा  का सेवन कर   सकते है.

 

अश्वगंधा के बारे में और अधिक जाने – यहाँ पढ़े 

 

 

Jatamansi   – जटामांसी

 

जटामांसी एक बारहमासी जड़ी बूटी है जो इन्सोमिया  और अन्य अनिद्रा विकारों के इलाज में मदद करती है। यह अपने  एंटीडिप्रैंसेंट और  एंटी स्ट्रेस गुणों के लिए भी जाना जाती है। जटामांसी की जड़ें आयुर्वेद में औषधि के रूप में इस्तेमाल की जाती हैं जो मूड स्विंग्स और तनाव विकारों में राहत देती है । जटामांसी मन की ऊर्जा को सही दिशा देकर नकारात्मक विचारों  से छुटकारा दिलवाने में मदद करता है ।

 

 

Brahmi – ब्राह्मी 

 

ब्राह्मी एक औषधीय पौधा है, जो आमतौर पर आयुर्वेदिक चिकित्सा में उपयोग किया जाता है.  इसमें तनाव  और डिप्रेशन को दूर करने की क्षमता होती है। ब्राह्मी एक अनुकूलन के रूप में कार्य करता है, जिसका अर्थ है कि यह शरीर को नए या तनावपूर्ण परिस्थितियों के अनुरूप बनाने में मदद करता है। ब्राह्मी के सेवन से मस्तिष्क में सेरोटोनिन का स्तर बढ़ता है, जिससे मन शांत होता है और चिंता और घबराहट से राहत मिलती है।

 

 

Peppermint – पुदीना

 

पुदीने में मेथॉल की उपस्थिति के कारण इसे सदियों से तंत्रिका तंत्र संबंधी विकारों/ nervous system disorders का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया गया है । पुदीने में विटामिन ए और विटामिन सी,  मैग्नीशियम, मैंगनीज, कैल्शियम, लोहा,  फोलेट, तांबे और पोटेशियम सहित कई खनिज होते है। मेन्थॉल आपके दिमाग को शांत रखकर अनिद्रा का इलाज करने में भी मदद करता है और तनाव से मुक्ति दिलवाता है।

 

उम्मीद करते है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा. अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप कमेंट्स के जरिये बता सकता है. हमारे आने वाले सभी आर्टिकल की सीधी जानकारी अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री subscribe करें.

 

नोट – आमतोर पर आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के कोई side effects नहीं होते है लेकिन इसकी सही मात्रा और सेवन के सही तरीके जानने के लिए आप चिकित्सक की परामर्श ले सकते है .

 

ऐसे पाए अवसाद से छुटकारा depression ka ilaj in hindi

Stress and tension Relief Tips in Hindi

MANAGEMENT OF EXAMINATION STRESS – परीक्षा के समय कैसे करे दिमाग को तैयार

Tension का ग्लास – ये story आपकी life बदल सकती है

Are you stressing out your kids?

Leave a Reply