क्या और क्यों खतरनाक है ब्लू व्हेल गेम blue Whale game in hindi

आजकल सोशल मीडिया और न्यूज़ में एक गेम को लेकर काफी चर्चा है और यह गेम है blue Whale game. इसे suicide game भी कहा जाता है. ज्यादातर लोग यह बात जानकर हैरान है की आखिर इस  गेम को खेलने से बच्चे अपनी जान क्यों ले रहे है. आखिर यह गेम दूसरी गेम्स से कैसे अलग है?? तो दोस्तों आज इस पोस्ट में हम blue Whale game का जिक्र करेंगे और साथ में यह भी बताएँगे की आप कैसे पता लगा सकते है की कही आपका बच्चा भी तो इसकी चपेट में नहीं है. तो आइये जानते है.

 

Information about blue whale in hindi – क्या है ब्लू व्हेल गेम

 

ब्लू व्हेल गेम या ब्लू व्हेल चैलेंज एक इंटरनेट “गेम” है जिसे कई देशों में मौजूद होने का दावा किया गया है। इसे एक आत्महत्या का गेम माना जाता है जिसमें एक क्यूरेटर रोज़ाना यूजर को कुछ टास्क  पूरा करने के लिए कहता  है.  इस खेल में 50 दिन की अवधि होती है जिसके दौरान क्यूरेटर द्वारा खिलाड़ियों को सौंपे गए कार्यों की एक लिस्ट  होती है, जिसमें अंतिम चुनौती आत्महत्या की होती है।  इन 50 दिनों के दौरान खिलाडियों को कई तरह के काम करने के लिए कहा जाता है जैसे सुबह 4.20  बजे उठकर डरावनी फिल्मे देखना, अपने हाथ पर ब्लेड से ब्लू व्हेल बनना या एफ-57 लिखना , हाथ या पैर पर सुई से कुछ बनाना, नसे काटना, छत से कूदना , क्यूरेटर द्वारा भेजी गई म्यूजिक को सुनना  आदि. 50 वे दिन आखिरी टास्क होता है जिसमे यूजर को आत्महत्या करने के लिए कहा जाता है. हर टास्क के बाद प्लेयर को उसकी फोटो क्यूरेटर को भेजने के लिए कहा जाता है। कई मामलों में पाया गया है की अगर यूजर ऐसा करने से माना करता  तो उसके परिवार को मार देने की धमकी दी जाती है. इस डर की वजह से भी बच्चे अपनी जान दे देते है.

 

 

कैसे हो रहे है बच्चे ब्लू व्हेल गेम का शिकार – How can children access blue Whale game

 

ब्लू व्हेल गेम इन्टरनेट पर मौजूद दूसरी गेम्स जैसा नही है. इसे न ही आप  play store से डाउनलोड कर सकते है और न ही ही google से. यानी इन्टरनेट पर blue Whale game की apk मौजूद नही है. बच्चो को यह गेम खेलने के लिए सोशल मीडिया साइट्स जैसे फेसबुक के  जरिये निशाना बनाया जाता है. गेम के administrator  सोशल मीडिया साइट्स के कुछ secretive groups  में इस गेम को शेयर करते है और वही से बच्चो को गेम खेलने का इनविटेशन send करते है. सोशल मीडिया लॉग इन के जरिये ही इस खतरनाक गेम में भाग लिया जाता है. यह इन्टरनेट पर कई  नामों से उपलब्ध है  जैसे ए साइलेंट हाउस,  A Sea of Whales  और Wake Me Up at 4:20 AM.

 

 

किसने बनाया था ब्लू व्हेल गेम – who is the inventor of blue whale game

 

ब्लू व्हेल 2013 में  VKontakte social  network के “एफ 57”  नामक डेथ ग्रुप ने  रूस में शुरू की थी. इसे रूस के एक मनोविज्ञानिक  छात्र फिलिप बुदेइकिन ने बनाया था. Budeikin की माने तो इसके जरिये उसका मकसद समाज को साफ़ करना था.उसके अनुसार जिन लोगो ने भी सुसाइड किया है वह एक तरह से बायोलॉजिकल waste है.  यह गेम उसने उन लोगो के लिए बनाया था जो जीना नहीं चाहते. इस गेम के चलते रूस में 130 से ज्यादा बच्चो की जाने गई है. इसके लिए बुदेइकिन को तीन साल की सजा हो चुकी है.

 

अब सरकार भी इस गेम के खिलाफ सख्त कदम उठाने के बारे में विचार कर रही है. हाल ही में  भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने ने गूगल, फेसबुक, व्हाट्सएप, instagram , माइक्रोसॉफ्ट और याहू जैसी कंपनियों को निर्देश दिया है कि वे  ब्लू व्हेल गेम सभी लिंक को हटा दें.

दोस्तों इस गेम के बारे में बताने का हमारा उदेश्य आपको सतर्क करना है ताकि आपके बच्चे इस तरह की किसी गेम के झासें में ना आये. यह गेम नहीं बल्कि अपनी जान से एक तरह का खिलवाड़ है.

 

उम्मीद करते है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा. कृपया इसे शेयर करें. आप अपने विचार, सुझाव या सवाल हमें comments के जरिये भेज सकते है.

 

यह भी जाने 

कैसे पाये इंटरनेट की लत से छुटकारा Internet addiction disorder

ज्यादा शोपिंग की बीमारी है कंपलसिव बाईंग डिसऑर्डर Compulsive buying disorder

ज्यादा सेल्फी लेना बना सकता है आपको सेल्फीासाइड का शिकार Selficide in hindi

Selfies and Youth: The Good, The Bad OR The Ugly

ऑनलाइन लेनदेनो की सुरक्षा के लिए जरूरी टिप्स – SAFE ONLINE TRANSACTIONS TIPS

2 Comments

  1. Deepak 09/09/2017
  2. gurmeet 17/09/2017

Leave a Reply