ऐसे पायें एसिडिटी से छुटकारा Home remedies for acidity/gas in hindi

acidity की समस्या तब होती है जब पेट की गैस्ट्रिक ग्रंथियों में एसिड का अतिरिक्त स्राव होता है, जिसके कारण गैस का उत्पादन होता है और पेट में दर्द और अन्य लक्षण होते हैं। acidity की कई वजह होती है जैसे मसालेदार  खाना ,  तनाव,  धूम्रपान, शराब,  शारीरिक गतिविधि की कमी,  खाने के पैटर्न में अनियमितता। आमतौर पर acidity की समस्या उन लोगो में ज्यादा होती है जो मासाहारी, तेल और मसालेदार भोजन खाते हैं। इसके आलावा खाने के बीच लंबी दूरी, खाली पेट या चाय, कॉफी, धूम्रपान या शराब के अत्यधिक सेवन के कारण भी हमारे पेट में गैस बनती है ।

acidity से पीड़ित लोग खाना खाने के बाद आमतौर जलन महसूस करते हैं. इसके आलावा  खट्टे डकार भी देखे जाते है। कभी-कभी एसिडिटी वाले लोगों में कब्ज और अपच भी देखी  जाती है।

 

Home remedies for acidity in hindi – एसिडिटी से निपटने के लिए घरेलू उपचार

 

आप इन घरेलु तरीको को अजमाकर गैस, अपच और एसिडिटी से काफी हद तक छुटकारा पा सकते है.

 

 

  • तुलसी के पत्तों के कृत्रिम गुण आपको एसिडिटी से तुरंत राहत दे सकते हैं। गैस के पहले संकेत पर कुछ तुलसी के पत्तों को खा लें या 3-4 तुलसी के पत्तों को पानी में उबालें ले और इसे पी लें. इससे आपको राहत मिलेगी.

 

  • एसिडिटी को रोकने के लिए आप भोजन के बाद सौंफ को चबा सकते है। सौंफ में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल गुण होते है जिससे पाचन तंत्र मजबूत होता है।

 

  • दालचीनी एक प्राकृतिक एंटैसिड के रूप में काम करता है और पाचन और अवशोषण में सुधार करके आपके पेट को व्यवस्थित कर सकता है। एसिडिटी से राहत के लिए आप दालचीनी की चाय पी सकते है.

 

  • गुड़ पाचन क्रिया को बढाता है और हमारे पाचन तंत्र को अधिक क्षारीय बनाता है, इस प्रकार गुड़ पेट की अम्लता को कम करता है। आप खाने के बाद गुड़ के छोटे टुकड़े को चूस सकते है । चूंकि गुड़ भी शरीर के सामान्य तापमान को बनाए रखने में मदद करता है, और पेट को ठंडा रखता है  इसलिए विशेषज्ञ गर्मी के दौरान गुड़ का शरबत पीने की सलाह देते है ।

 

  • केले में प्राकृतिक एंटीसिड्स होते हैं जो एसिड के खिलाफ बफर के रूप में कार्य करते हैं। अम्लता से छुटकारा पाने के लिए यह सबसे सरल उपाय है। अगर एसिडिटी की समस्या ज्यादा होती है तो इससे छुटकारा पाने के लिए प्रति दिन एक केला खाएं

 

  • दूध पेट में गैस्ट्रिक एसिड को स्थिर करने में मदद करता है. दूध में कैल्शियम होता है, जो पेट में एसिड के निर्माण को रोकता है। “आपको बस इतना करना है कि अगली बार जब आप एसिडिटी से पीड़ित हों तो बस एक गिलास ठंडा  दूध पी लें.

 

  • पानी में कुछ पुदीने के पत्ते उबालें और भोजन के बाद एक गिलास लें. इससे गैस से छुटकारा मिलता है.

 

  • नारियल के पानी, खीरे और तरबूज़ के रस से भी गैस की समस्या से आराम मिलता है.

 

  • अदरक से पाचन क्रिया में सुधार होता है इसलिए अपने भोजन में अदरक को जरुर शामिल करें.

 

  • अगर खाने के बाद आपको गैस बनती है तो भोजन करने से कुछ देर पहले निम्बू पानी पी लें.

 

 

PREVENTION FROM ACIDITY IN HINDI

इन तरीकों से एसिडिटी को रोका जा सकता है:

 

  • अगर आपको काफी ज्यादा गैस की समस्या है तो ज्यादा मसालेदार भोजन न करे.

 

  • ज्यादा से ज्यादा फल और हरी सब्जियां खाएं

 

  • जितनी भूख को सिर्फ उतना खाएं

 

  • सोने से कुछ घंटे पहले ही खाना खा लें. साथ ही खाना खाने के बाद कुछ देर टहल लें.

 

  • भोजन के बाद तुलसी के पत्ते, सौंफ आदि को चबा सकते है

 

  • ज्यादा तनाव न ले

 

  • अत्यधिक धूम्रपान और शराब पीने से अम्लता बढती है इसलिए इसे कटोती करे.

 

  • रोजाना एक्सरसाइज करे

 

अगर एसिडिटी की समस्या ज्यादा और काफी समय से  है तो किसी चिकित्सक से परामर्श जरुर लें.

 

दोस्तों अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपया कमेंट्स करें. अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो कृपया इसे शेयर करें.

 

सिरदर्द के कारण और इलाज़ headache/ Migraine treatment in hindi

High Blood Pressure के कारण, लक्षण और उपचार

जानिए डायबिटीज के लक्षण कारण इलाज़ और बचाव Diabetes in hindi

मोच का घरेलू इलाज़ – Moch ka upchar in hindi

डिप्रेशन का मनोविज्ञान how to control and cure depression in Hindi

Leave a Reply