जानिए हार्मोन्स के बारे में Different Hormone and their functions in hindi

हार्मोन रासायनिक पदार्थ होते हैं जो इंसान की गतिविधियों और उनके विकास को नियंत्रित करते हैं। ये हमारे शरीर की एंडोक्राइन ग्रंथियों द्वारा स्रावित होते हैं और रक्त प्रवाह द्वारा कोशिकाओं को सक्रिय करते है । यह हमारे शरीर में सन्देशवाहक यानि messenger के रूप में कार्य करते है. विभिन्न प्रकार के हार्मोन हमारे शरीर पर में अलग-अलग प्रभाव डालते हैं। । यह शरीर के विकास , चयापचय, यौन कार्य, प्रजनन,नींद,तनाव,मूड इत्यादि को कंट्रोल करते हैं। शरीर की संतुलित अवस्था बनाये रखने के लिए Hormones का उचित मात्रा में निकलना आवश्यक है लेकिन जब ये Hormone कम या ज्यादा मात्रा में स्रावित होते हैं तब शरीर पर इनके कई प्रकार के नकरात्मक प्रभाव देखने को मिलते है ।

दोस्तों इस आर्टिकल में हम हमारे शरीर से निकलने वाले कुछ महत्पूर्ण Hormone के बारे में बात करेंगे जो एक इंसान को स्वस्थ और खुशहाल रखने के लिए जरुरी है

 

Different Hormone and their functions in hindi = हार्मोन और उनके कार्य

 

Growth hormone – ग्रोथ हार्मोन

ग्रोथ हार्मोन का निर्माण पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा होता है जो हमारे मस्तिष्क पर स्थित होती है । ग्रोथ हार्मोन मांसपेशियों को बढ़ाने, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने, शरीर में कोशिकाओं के पुनर्निर्माण और शारीरिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. साथ ही सामान्य शरीर संरचना और चयापचय को बनाए रखने में भी ग्रोथ हार्मोन का योगदान होता है.

 

Thyroxine – थाइरॉक्सिन

थाइरॉक्सिन हार्मोन का स्त्राव थायराइड ग्रंथि द्वारा किया जाता है। थायराइड एक एंडोक्राइन ग्लैंड है जो गर्दन मे श्वास नली के ऊपर होती है. थाइरॉक्सिन हार्मोन हमारे पाचन तंत्र को नियंत्रित करता है और हड्डियों और मस्तिष्क के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

थायराइड ग्रंथि द्वारा थाइरॉक्सिन के बहुत कम उत्पादन से हाइपोथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है। यह ये कई तरह की बीमारियों, आयोडीन के कम सेवन सेवन या कुछ दवाओं के उपयोग के कारण हो सकता है। यह जेनेटिक भी होता है. थाइरॉक्सिन हार्मोन शारीरिक और मानसिक विकास के लिए आवश्यक हैं, इसलिए hypothyroidism के कारण कई तरह समस्याएँ देखने को मिलती है.

 

Insulin – इन्सुलिन

इस Hormone का स्त्राव पैनक्रियाज यानि अग्‍नाश्‍य द्वारा जारी किया जाता है. अग्‍नाश्‍य एक महत्वपूर्ण ग्रंथि है जो पेट में पायी जाती . यह ग्रंथि कार्बोहाइड्रेट्स को blood sugar में परिवर्तित करती है और इन्सुलिन इस blood sugar को ऊर्जा में परिवर्तित कर देता है. इससे शरीर में sugar का स्तर नियंत्रण में रहता है. शरीर में insulin के कमी से डायबिटीज होती है.

 

Cortisol – कोर्टिसोल

कोर्टिसोल एक “stress hormone” है जिसका निर्माण एड्रेनल ग्रंथि द्वारा किया जाता है। यह ग्लैंड हमारी दोनों किडनी के शीर्ष पर होती है. कोर्टिसोल हमें स्वस्थ और ऊर्जावान रहने में मदद करता है। इसकी मुख्य भूमिका स्ट्रेस को कंट्रोल करना है। तनावपूर्ण स्थिति से सामना करने के लिए हमारा शरीर कोर्टिसोल का स्त्राव करता है। कोर्टिसोल के कम स्तर से थकान, मांसपेशियों में कमी, वजन घटने , मूड स्विंग, और त्वचा में परिवर्तन जैसी समस्याएँ देखने को मिलती है.

 

Estrogen – एस्ट्रोजन

एस्ट्रोजन महिला सेक्स हार्मोन है जिसका स्त्राव महिलाओं के अंडाशय द्वारा होता है. यह महिलाओ में प्रजनन, मासिक धर्म, यौन विकास और रजोनिवृत्ति के लिए महत्वपूर्ण है इसलिए इस हार्मोन का उचित मात्रा में उत्पादन आवश्यक है. मादा शरीर में एस्ट्रोजन के अधिक स्त्राव से स्तन कैंसर, गर्भाशय कैंसर, अवसाद, मूडनेस इत्यादि का खतरा बढ़ जाता है। अगर महिला शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर कम होता है तो मुँहासे, बालों का झड़ना जैसी समस्याएँ भी देखने को मिलती है.

 

Testosterone – टेस्टोस्टेरोन

टेस्टोस्टेरोन पुरुष सेक्स हार्मोन है। यह एक अनाबोलिक स्टेरॉयड है जो शरीर की मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है। यह पुरुष प्रजनन ऊतकों के विकास और यौन शक्ति को बढ़ाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यदि टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन पुरुषों में अपर्याप्त मात्रा में होता है तो इससे कई तरह की असामान्यताएं जैसे कमजोरी, मूड स्विंग्स, चिडचिडापन देखने को मिलती है

 

इन सभी Hormones का उचित मात्रा में स्त्राव हमारे शरीर को स्वस्थ्य रखता है लेकिन जब इनकी मात्रा घटती है या बढती है तो कई प्रकार की बीमारियाँ शरीर को घेर लेती है. हमारे शरीर में Hormone के असंतुलन का मुख्य कारण होता है हमारी अनियमित जीवनशैली, अपर्याप्त नींद, तनाव, कुपोषण, समय से भोजन ना करना , व्यायाम ना करना, आदि। इसलिए स्वस्थ शरीर के लिए एक अच्छी जीवनशैली का होना बहुत जरुरी है.

 

तो दोस्तों उम्मीद करते है आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा. अगर आपके कोई सवाल है तो कृपया कमेंट्स के जरिये अपनी बात रखे और हमारे आने वाले सभी आर्टिकल को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री सब्सक्राइब जरुर करे और हमारा फेसबुक पेज like करें

 

यह भी जाने

जानिये टेस्टोसटेरोन क्या है, इसके कम होने के कारण और टेस्टोसटेरोन का लेवल बढ़ाने के उपाय

जानिये गुड फैट और बैड फैट के बारे मे Good Fats vs. Bad Fats

जानिये प्रोटीन और अमीनो एसिड्स के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी

जानिए Vitamin B Complex कमी से आपकी Health को क्या खतरे हैं

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

One Response

  1. HindiApni 10/08/2018

Leave a Reply