सफलता का मंत्र है यह योग karma yoga in Hindi

जानिए क्या है कर्म योग (karma yoga) का मतलब

श्रीमद्भगवद्गीता के 2 अध्याय का 47 श्लोक है

कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषुकदाचन।

भा कर्मफल हेतुभूः मा ते संगो स्त्वकर्मणि

 

karmany evadhikaras te
ma phalesu kadacana
ma karma-phala-hetur bhur
ma te sango ‘stv akarmani

 

जिसका सार है कर्म किए जा फल की इच्छा मत कर ( You have a right to perform your prescribed duties, but you are not entitled to the fruits of your actions)। इसे कर्म योग (karma yoga) भी कहा जाता है जिसे गीता मे सर्वश्रेष्ठ माना गया है। गीता के अनुसार किसी भी इंसान की सफल ज़िंदगी के लिए कर्मयोग का होना सबसे ज्यादा महतव्पुर्ण है।

 

लेकिन जब जब हमे सुनने को मिलता है की ‘’कर्म किए जा फल की चिंता मत कर’’ तो कभी कभी यह काफी अजीब लगता है की कोई काम हम बिना फल की चिंता के कैसे कर सकते है? आखिर हम कोई संत या सन्यासी तो है नहीं। लेकिन यह इस श्लोक (karma yoga) को गलत ढंग से समझना हुआ। दरअसल यह तो हमे सिर्फ सलाह देता है की आप बस अपना काम करें। उस काम का क्या नतीजा होगा उस पर ज्यादा ध्यान न दे। यह हमे अपने अपने आज मे जीने को कहता है। आज मे जीना ही पल मे जीना है। पल मे जीने के मायने है, आप जहां हो , जिस हाल मे हो उसे भरपूर जियो। उस पल का पूरा मजा लो। इसका मतलब हुआ की आप अपना जो भी काम कर रहे है उसमे पूरी तरह डूब जाओ। उसमे डूबने के मायने है की आप उस पल अपना 100 % दे रहे है। मजेदार बात यह है की आप काम हमेशा अपने आज मे कर रहे होते है लेकिन आपका दिमाग और मन हमेशा भविष्य मे होता है। सुबह से लेकर शाम तक काम करने के बाद भी मन को संतुष्टि नहीं मिलती क्योकि जो हमने किया है या जो हमारे पास है हम उसका सुख नहीं ले पाते और उस काम के नतीजे(result) यानि के भविष्य की चिंता मे डूब जाते है। ऐसा नहीं है की हम जानते नहीं है की नतीजा हमारे हाथ मे है ही नहीं लेकिन फिर भी जान कर अनजान बनते है।  इंसान अगर वर्तमान(present time) मे जीना सीख ले तो उसकी बहुत सारी परेशानियाँ तो अपने आप ही गायब हो जाती है।

 

आप जिस पल मे जी रहे है वही काम का समय है और उसमे मजा तब ही आएगा जब आप जुट कर अपनी इच्छा के काम कर सकते है बिना चिंता किए की उसका नतीजा आपके हक मे जाएगा या नहीं क्योकि तब ही आप खोने या पाने की चिंता के बिना किसी भी काम को बिना प्रैशर के कर सकते है । यही कर्म योग (karma yoga) है।

 

निवेदन ; अगर आपको कर्म योग (karma yoga)  पर आधारित यह आर्टिक्ल पसंद आया हो तो कृपया इसे शेयर कीजिये और हमारे आने वाले आर्टिक्ल को पाने के लिए नीचे फ्री मे subscribe करे।

READ MORE

क्यो और कैसे करे मेडिटेशन– Meditation in Hindi For Beginners

व्यक्तित्व विकास – personality development tips in hindi

Tips for good sleep in Hindi अच्छी नींद लेने के तरीके

अँग्रेजी बोलना सीखे Best Tips For English speaking in Hindi

किसी दुखी इंसान की मदद कैसे करे

Did you enjoy this article?
सभी नए Posts अपनी E-Mail पर तुरंत पाने के लिए यहाँ अपनी E-mail ID लिखकर Subscribe करें। कृपया यहाँ Subscribe करने के बाद अपनी E-mail ID खोलें तथा भेजे गये वेरिफिकेशन लिंक पर क्लिक करके वेरीफाई करें।
WHATSKNOWLEDGE .COM का WHATSAPP GROUP JOIN करे और पाए सभी आर्टिकल्स सीधे मोबाइल पर हमें WHTASAPP करे 7065908804 पर और लिखे Add me to whatsknowledge group
2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *