जानिए क्या होती है मानसिक विकलांगता Mental retardation in hindi

Mental retardation यानि मानसिक विकलांगता एक ऐसी अवस्था है जिसमे व्यक्ति का IQ 70 से नीचे होता है. IQ इंसान की बौद्धिक क्षमता का मापदंड है.  ऐसे में व्यक्ति अपनी उम्र के अनुसार व्यव्हार करने में असमर्थ होते है. जैसे उनके बातचीत करने, घुलने मिलने, अपनी देख रेख  करने या सामाजिक कौशल में सामान्य लोगो से भिन्नता देखी जा सकती है.  इस तरह की दुर्बलता की शुरुआत 18 साल की उम्र से पहले ही हो जाती है. यह समस्या बच्चो में जन्म से ही रहती है.  ऐसे बच्चो में भाषा के विकास में देरी, याद रख पाने में कठिनाई, गलत सही के ज्ञान, और व्यवहार संबंधी समस्याएँ देखी जाती है.

आम भाषा में इस रोग से पीड़ित लोगो को मंदबुद्धि कहा जाता है.

 

cause of mental retardation in hindi –  मानसिक दुर्बलता के कारण

 

  • मानसिक दुर्बलता का मुख्य कारण genetic error या त्रुटिपूर्ण जीन गठबंधन है.  जैसे डाउन सिंड्रोम नामक बीमारी में व्यक्ति  के chromosome के 21 वे जोड़े में एक एक्स्ट्रा chromosome होता है. ऐसे लोगो में मानसिक दुर्बलता पाई जाती है.

 

  • गर्भावस्था के दौरान समस्याओं जैसे माँ को चोट लगना या माँ की शराब के लत के कारण भी बच्चो में mental retardation की समस्या विकसित होती है.

 

  • Cretinism नामक रोग थायराइड हॉर्मोन की अत्यधिक कमी से विकसित होता है जिससे बच्चो में मानसिक दुर्बलता पैदा होती है.

 

  • आयोडीन की कमी के कारण भी यह समस्या होती है.

 

  • hydrocephaly एक प्रकार की मानसिक दुर्बलता है जिसमे नवजात बच्चे के दिमाग में एक प्रकार का fluid जम जाता है जिससे उसके मस्तिष्क का आकार सामान्य से अधिक हो जाता है.

 

  • जन्म के समय या नवजात अवस्था में किसी समस्या, गंभीर रोग या इन्फेक्शन के कारण भी यह समस्या विकसित हो जाती है.

 

 

Levels of mental retardation in hindi –  मानसिक विकलांगता के प्रकार

 

Mild mental retardation

माइल्ड मेंटल रिटार्डेशन से पीड़ित लोगो का IQ 52-67 के बीच होता है और बड़े हो जाने पर इनकी बौद्धिक क्षमता 9 से 11 साल के बच्चो जैसी हो जाती है. ऐसे लोगो में किसी प्रकार की मस्तिष्कीय विकृति या शारीरिक विकृति नहीं होती. इसलिए वे कुछ हद तक शिक्षा प्राप्त करने योग्य होते है. परेंट्स या किसी स्पेशल एजुकेशनल प्रोग्राम द्वारा इनके सामाजिक विकास या स्किल्स को बढाया जा सकता है.

 

 

Moderate mental retardation

मॉडरेट मेंटल रिटार्डेशन से पीड़ित लोगो का IQ 35 से 51 के बीच होता है. वयस्क हो जाने के बाद भी ऐसे लोगो का मेंटल लेवल 4 से 7 की उम्र के बच्चो जितना होता है.  ऐसे लोग हल्का फुल्का प्रशिक्षण पाने योग्य होते है. इसलिए इन्हें स्पेशल एजुकेशनल प्रोग्राम में भेजा जा सकता है. बात करें इनकी शारीरक बनावट की तो ये थोड़ी अजीब और कुरूप होती है. साथ ही इनकी motor coordination जैसे running, jumping, throwing  में भी समस्या देखने को मिलती है. कई बार इनमे आक्रमक प्रवृत्ति भी देखने को मिलती है.

 

 

Severe mental retardation

ये मानसिक दुर्बलता का गंभीर रूप है.  इसमें वे लोग आते है जिनका IQ 20 से 35 के बीच होता है. इसलिए ये ज्यादतर दुसरो पर डिपेंडेंट रहते है. ऐसे लोग अपनी देखबाल खुद नहीं कर पाते. इनकी motor coordination और बातचीत करने की क्षमता कमजोर होती है. कई लोगो में sensory defects जैसे कम सुनाई देना, कम दिखाई देना  भी देखने को मिलता है.

 

 

Profound mental retardation

ये मानसिक दुर्बलता का अंतिम रूप है. ऐसे लोगो को IQ level 20 से भी कम होता है. इसलिए वे  साधारण से साधारण काम जैसे नहाना, कपडे पहनना भी खुद नहीं का पाते. ऐसे लोगो में कई तरह के शारीरक दोष देखने को मिलते है. इन लोगो को पूरी जिंदगी दुसरो की सहायता पर निर्भर रहना पड़ता है. साथ ही कई पीडितो में गूंगापन, बहरापन भी देखने को मिलता है. इनकी रोगों से लड़ने की क्षमता काफी कम होती है इसलिए इनकी मृत्यु जल्दी हो जाती है.

 

 

क्या है स्पेशल एजुकेशनल प्रोग्राम का महत्व

 

मानसिक रूप से दुर्बल बच्चो के लिए स्पेशल एजुकेशनल प्रोग्राम काफी जरुरी है.  इन प्रोग्राम या स्कूल के जरिये बच्चो को इस प्रकार से ट्रेन किया जाता है की वे कुछ हद तक रोजमरा के काम बिना किसी की सहायता से कर सकते है.

यह बच्चो में कुछ बुनियादी स्किल्स को विकसित करने में सहायक होते है.

साथ ही भाषा के विकास के लिए, सही गलत की कुछ हद तक जानकारी के लिय, सोशल स्किल्स बढ़ाने के लिए, हीन भावना से बचने के लिए, motor coordination जैसे running, jumping विकसित करने के लिए भी यह काफी महत्वपूर्ण है.

 

 

उम्मीद करते है यह आर्टिकल आपके लिए फायदेमंद साबित होगा. अगर आपके कोई सवाल या सुझाव है तो कृपया कमेंट्स के जरिये अपनी बात रखे और हमारे आने वाले सभी आर्टिकल्स को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री सब्सक्राइब जरुर करें.

 

यह भी जाने

अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर के लक्षण कारण और इलाज़ ADHD in hindi

ऑब्सेसिव कंपल्सिव डिसऑर्डर के कारण, लक्षण और इलाज obsessive compulsive disorder in hindi

डिप्रेशन का मनोविज्ञान how to control and cure depression in Hindi

जानिए क्या होता है पैनिक डिसऑर्डर panic disorder in hindi

ज्यादा सेल्फी लेना बना सकता है आपको सेल्फीासाइड का शिकार Selficide in hindi

contact for web designing

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

One Response

  1. Alizee 16/03/2018

Leave a Reply