swami vivekanand motivational quotes युवाओ के प्रेरणादायक स्वामी विवेकानंद के प्रेरणादायक विचार

युवाओ के प्रेरणा कहे जाने वाले स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कलकत्ता के एक कुलीन बंगाली परिवार मे हुआ था। उनके घर का नाम नरेंद्र दत्त था। बचपन से ही उनका अध्यात्मिकता के प्रति लगाव था। उनके गुरु रामकृष्ण परमहंस थे स्वामी जी उनके विचारो से बहुत प्रभावित थे. उन्होने अपने सारे विचारो को अपने गुरु की विचारधारा से उत्पन्न माना। विवेकानंद जी भारत के आध्यात्मिक एवं सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के प्रमुख चिंतक थे. विवेकानंद ने 1893 मे शिकागो विश्वधर्म सम्मेलन मे भारत का प्रतिनिधित्व किया और भारतीय धर्म का गौरव बढ़ाया। विवेकानंद को स्वामी की उपाधि खेतड़ी महाराजा अजितसिंह ने दी। स्वामी विवेकानंद की जयंती को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप मे मनाया जाता है। स्वामी विवेकानंद के विचार युवाओ के लिए प्रेरणा स्त्रोत का काम करते है। उनके ऐसे ही कुछ प्रेरणादायक विचारो (quotes of swami Vivekananda) का संकलन इस लेख मे किया गया है।

quotes of swami Vivekananda

  • किसी एक विचार को अपने जीवन का लक्ष्य बनाओ कुविचारों का त्याग कर केवल उसी विचार के बारे मे सोचो तुम पाओगे कि सफलता तुम्हारे कदम चूम रही है।

 

  • हम वो है जो हमे हमारी सोच ने बनाया है, इसलिए इस बात का ध्यान रखिए कि आप क्या सोचते है, शब्द गौण है, विचार रहते है, वे दूर तक यात्रा करते है।

 

  • सभी शक्ति तुम्हारे भीतर है, आप कुछ भी और सब कुछ कर सकते है

 

  • आप जैसे विचार करेंगे, वैसे आप हो जाएंगे, अगर अपने आपको निर्बल मानेंगे तो आप निर्बल बन जाएंगे और यदि आप अपने आपको समर्थ मानेंगे तो आप समर्थ बन जाएँगे।

 

 

  • मस्तिष्क की शक्तियां सूर्य की किरणों के समान है. जब वो केन्द्रित होती है चमक उठती है.

 

  • किसी मकसद के लिए खड़े हो तो एक पेड़ की तरह गिरो तो बीज की तरह ताकि दोबारा उगकर उसी मकसद के लिए जंग कर सको

 

  • कभी मत सोचिए कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है. ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है. अगर कोई पाप है तो वो यही है; ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल है.

 

  • सम्भव कि सीमा जानने का केवल एक ही तरीका है। असम्भव से भी आगे निकल जाना।

 

  • स्वतंत्र होने का साहस करो, जहां तक तुम्हारे विचार जाते है वहाँ तक जाने का साहस करो, और उन्हे अपने जीवन मे उतारने का साहस करो।

 

  • विश्व मे अधिकांश लोग इसलिए असफल हो जाते है, क्योकि उनमे समय पर साहस का संचार नहीं हो पाता वे भयभीत हो उठते है

 

  • जब तक आप खुद पर विश्वास नहीं करते तब तक आप भगवान पर विश्वास नहीं कर सकते

 

  • तुम अपनी अंत:स्थ आत्मा को छोड़ किसी और के सामने सिर मत झुकाओ। जब तक तुम यह अनुभव नहीं करते कि तुम स्वयं देवो के देव हो, तब तक तुम मुक्त नहीं हो सकते।

 

  • खुद को कमजोर समझना सबसे बढ़ा पाप है

 

  • किसी दिन जब आपके सामने समस्या ना आए आप सुनिश्चित हो सकते है कि आप गलत मार्ग पर चल रहे है।

 

  • कुछ सच्चे, ईमानदार और ऊर्जावान पुरुष और महिलाए, जितना कोई भीड़ एक सदी मे कर सकती है उससे अधिक एक वर्ष मे कर सकते है।

 

  • हम जो बोते है वो काटते है. हम स्वयं अपने भाग्य के विधाता है. हवा बह रही है; वो जहाज जिनके पाल खुले है, इससे टकराते है, और अपनी दिशा मे आगे बढ़ते है, पर जिनके पाल बंधे है हवा को पकड़ नहीं पाते, क्या यह हवा कि गलती है?…. हम खुद अपना भाग्य बनाते है.

 

  • किसी चीज से मत डरो. तुम अदभूत काम करोगे. यह निर्भयता ही है जो क्षण भर मे परम आनंद लाती है.

 

आशा है की स्वामी विवेकानन्द के इन विचारो से आप  लाभान्वित होंगे और आपको जरूर  पसंद आएंगे। अगर आपको ऐसा लगता है की यहा उनके कुछ और विचार डाले जा सकते थे जो प्रोत्साहित करे तो आप उन्हे अपने comments के माध्यम से हमे  जरूर बताए। हमारे अगले posts प्राप्त करने के लिए हमे free of cost subscribe करे और हमारे facebook page को like करे।

 

related posts

चाणक्य के विचार जो दे सकते है आपको एक नई दिशा

motivational quotes of chanakya in hindi

Navjot singh sidhu ki motivational shayri

Did you enjoy this article?
सभी नए Posts अपनी E-Mail पर तुरंत पाने के लिए यहाँ अपनी E-mail ID लिखकर Subscribe करें। कृपया यहाँ Subscribe करने के बाद अपनी E-mail ID खोलें तथा भेजे गये वेरिफिकेशन लिंक पर क्लिक करके वेरीफाई करें।
WHATSKNOWLEDGE .COM का WHATSAPP GROUP JOIN करे और पाए सभी आर्टिकल्स सीधे मोबाइल पर हमें WHTASAPP करे 7065908804 पर और लिखे Add me to whatsknowledge group

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *