जानिये कैसे म्यूचुअल फंड आपके सपनो को उड़ान दे सकते है

Mutual Funds के बारे में आपने टीवी या अन्य जगहों पर सुना ही होगा. लेकिन क्या आप जानते है की म्यूचुअल फंड क्या होते है और कितने तरह के होते है?. किस Mutual Fund में कितना रिस्क रहता है? अगर नहीं तो यह पोस्ट आपके लिए है. आज हम Mutual Fund  के बारे में बेसिक जानकारी देने की कोशिश करेंगे.तो आइये जानते है.

 

क्या होते है म्यूचुअल फंड – Mutual Funds in hindi

म्यूचुअल फंड निवेश का एक साधन है, ये पेशेवर रूप से प्रबंधित निवेश योजना है जो की आमतौर पर एक परिसंपत्ति प्रबंधन कंपनी द्वारा चलाया जाता है जो लोगों के समूह को एक साथ लाता है और उनके पैसे को स्टॉक, बांड और अन्य प्रतिभूतियों में निवेश करता है. साधारण शब्दों में कहे तो म्यूचुअल फंड का मतलब है कुछ लोगो का स्टॉक, बांड और अन्य प्रतिभूतियों के माध्यम से एक साथ पैसे इकट्ठे करना.

 

कैसे ढूंढे सही प्रकार के म्यूचुअल फंड

म्यूचुअल फंड मे निवेश करने से पहले यह पता करे कि आपके निवेश का लक्ष्य क्या है:

रिटायरमेंट।

खुद का घर।

बच्चो की शिक्षा।

आपकी शादी के लिए।

आगे चल के गाडी खरीदने का प्लान।

 

यह सब बाते ध्यान मे रख कर निवेश प्लान करे ताकि आपको आपके सपने पूरे होने मे आसानी हो। और याद रखे सारे म्यूच्यूअल फण्डस मार्किट मूवमेंट पे आधारित होते है।

 

म्यूचुअल फंड इन्वेस्टमेंट प्लान के प्रकार: types of mutual funds in hindi

 

इक्विटी म्यूचुअल फंड (Equity Mutual Fund) – इन्हे दीर्ध अवधि फण्डस (long term Funds) भी कहते है जो की बहुत ही जोखिम भरे होते है लेकिन ये मार्किट से सबसे ज्यादा रिटर्न्स प्रदान करने की क्षमता रखते है और ये आपके लम्बे समय के लक्ष्य को प्रदान करने की भी क्षमता रखते है।

जैसे आपके बच्चो की उच्च शिक्षा प्राप्त करने मे म्यूचुअल फंड फायेदेमंद साबित हो सकते है । मान ले आगे चलके आपके बच्चो को टॉप बी टेक कॉलेज या एम बी ए मे दाखिला लेना है. इसे  दिलाने मे म्यूचुअल फंड आपकी मदद कर सकते है  जिससे आपको किसी से पैसे मांगने या लोन लेने की ज़रूरत भी नहीं पढेगी.

 

बैलेंस्ड म्यूच्यूअल  फण्डस (balanced mutual funds) –  ये सामान्य जोखिम भरे होते है और सामान्य रिटर्न्स के लिए फायदेमंद होते  है .यह फण्डस भी आपके लॉन्ग टर्म के लक्ष्य को प्राप्त करने मे मदद करते है।

जैसे आपके रिटायरमेंट के बाद जब आपको पैसे की ज़रूरत हो। या आपके बच्चो को स्कूल समाप्त करने के बाद किसी भी कॉलेज मैं एडमिशन लेना हो.

 

फिक्स्ड इनकम फण्डस (Fixed Income Mutual Funds) – ये मीडियम टर्म के लिए होते है और कम जोखिम भरे होते है क्योकि आपका पैसा इक्विटी मार्किट मे निवेश नहीं किया जाता है।

इस तरह के फण्ड मे तभी निवेश करे जब आपका प्लॉन एक्स्ट्रा इनकम कमाने का हो न की  अपनी ज़रूरते पूरी करने के लिए। जैसे अगर कुछ ही सालो मे आप कही बाहर  घूमने जाने का प्लेन कर रहे हो , या कोई गाडी खरीदने की सोच रहे हो।

 

लिक्विड फण्डस (liquid funds) – ये शॉर्ट टर्म और ऑन गोइंग फण्डस  के नाम से भी जाने जाते है।

इस प्रकार के फण्डस  मे आपके  पैसे सुरक्षित रहते है क्योकि  इनमे जोखिम बिलकुल ना के बराबर होता है। इन फण्डस  मे बैंक फण्ड से ज्यादा रिटर्न्स प्राप्त हो सकता है। इस प्रकार की इन्वेस्टमेंट  मे आप अपने बचे हुए पैसे बिना किसी चिंता के संभाल के रख सकते है.

इन् फण्डस  मैं कोई एग्जिट लोड नहीं होता जिसका मतलब है जब भी आप पैसे निकालते है तो आपके कुछ प्रतिशत पैसे कटते है जो की इन फण्डस  मे नहीं होता।

उदहारण के लिए आपने कोई Entrance Test लिखा जैसे Symbiosis Entrance Test और इसके परिणाम  आने मे अभी समय है तो आप आपके पैसे लिक्विड फण्डस  मे डाल सकते है और परिणाम आने पे निकाल सकते है क्योकि इसमें  आप पैसे एक दिन के लिए भी, एक महीने के लिए भी और कितने भी समय के लिए रख सकते है।

 

तो दोस्तों उम्मीद करते है Mutual Funds के बारे यह जानकारी आपके लिए फायदेमंद साबित होगी. अगर आप भी इस टॉपिक पर अपने विचार या सुझाव प्रकट करना चाहते है तो कृपया कमेंट्स के जरिये अपनी बात रखें और हमारे आने वाले सभी आर्टिकल्स को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री सब्सक्राइब जरुर करें

 

लेखक के बारे में

म्यूचुअल फंड

 

 

 

 

 

I am Amit Singh Rawat, a Content writer in Getmyuni, loves travelling to new places, and exploring new things. Always ready to learn new things and grow! ‌

WebsiteGetmyuni.com

 

यह भी जाने

RTI अधिनियम क्या है और कैसे आप इस अधिकार का इस्तेमाल कर सकते है ?

कैसे करें आधार और पैन कार्ड को लिंक How to link aadhaar with pan card in hindi

contact for web designing

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

3 Comments

  1. vijay Singh 30/01/2018
  2. Achhipost 23/02/2018
  3. Nitin 09/03/2018

Leave a Reply