कमजोरी दुबलेपन यौन समस्याओ का इलाज है सफ़ेद मूसली

safed musli आयुर्वेदिक जड़ है, इसका प्रयोग बल और शक्ति बढ़ाने के लिए किया जाता है. पुरुषो के लिए सफ़ेद मूसली बहुत ही लाभकारी, बलवर्धक होती है. इसकी जड़ो का औषधी के रूप में प्रयोग किया जाता है. इसका सेवन करने से शारीर में उर्जा का संचार होता है. टेस्टोस्टेरोन नामक हॉर्मोन के उत्पादन में सफ़ेद मूसली का प्रयोग किया जाता है.

सफ़ेद मूसली के विभिन्न नाम – different names of safed musli

  • scientific name : Chlorophytum Borivilianum (क्लोरोफायटम बोरिविलिअनुम)
  • हिंदी में इसे सफ़ेद मूसली कहा जाता है.
  • संस्कृत में इसे श्वेत मूसली कहा जाता है
  • इंग्लिश में इसे (क्लोरोफायटम ) Chlorophytum, इंडियन स्पाइडर प्लांट ( Indian Spider Plant), White Musli कहा जाता है.

 

सफ़ेद मूसली के गुण और लाभ – safed musli benefits in hindi

शारीरिक क्षमता बढ़ाने, दुर्बलता को दूर करने में, शीघ्रपतन के इलाज में, स्पर्मकाउंट यानि की शुक्राणुओ की संख्या बढ़ाने में, कामोत्तेजना बढ़ाने में सफ़ेद मूसली बहुत उपयोगी होती है. जानकारों का मानना है की शक्तिहीन पुरुष के लिए तो safed musli एक वरदान होती है जो पुरुष में युवापन ला देती है और उसे बुढ़ापे से दूर कर देती है. महत्वपूर्ण बात यह है की इसका सेवन करने से कोई साइड इफ़ेक्ट या नकारात्मक प्रभाव नहीं होता. सफ़ेद मूसली की जड़ो को कूट कर उसका पाउडर बनाया जाता है. इसे आप अपने घर पर भी बना सकते है, सफ़ेद मुसली की जड़ो को पीसकर इसका पाउडर या चूर्ण बना ले, सफ़ेद मूसली की जड़ो का पाउडर आपको बना बनाया बाजार मे भी मिल जायेगा.

 

सफ़ेद मूसली से बीमारियों का इलाज

  • safed musli को शरीर की क्षमता बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता है. इसे वीर्यवर्धक माना जाता है, वीर्य को पुष्ट करने के लिए और वीर्य की वृद्धि के लिए सफ़ेद मूसली का प्रयोग किया जाता है.
  • शुक्राणुओ की संख्या बढ़ाने के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है.
  • शीघ्रपतन से मुक्ति पाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है.
  • नपुंसकता को दूर करने, कामुकता को बढाने, लिंग वृद्धि और सेक्स संबंधी समस्याओ जैसे स्पर्म काउंट बढ़ाने और वीर्य बनाने को दूर करने के लिए सफेद मूसली का प्रयोग किया जाता है.
  • ऐसे पुरुष जो काफी कमजोर होते है, शक्तिहीन अनुभव करते है, थकावट महसूस करते है, उन्हें सफेद मूसली का सेवन करना चाहिए. इससे उन्हें ताकत प्रदान होगी और शरीर में उर्जा का प्रवाह होगा.
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है.
  • इसका उपयोग (Arthritis) गाठिया, अस्थमा,  बवासीर और मधुमेह के उपचार में किया जाता है
  • पेशाब की जलन से छुटकारा पाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है.
  • ऐसे लोग जिनका वजन कम होता है उन्हें वजन बढ़ाने के लिए सफ़ेद मूसली का प्रयोग करना चाहिए.

ये लेख भी जरूर पढ़े – अश्वगंधा और शतावरी ताकत की इन आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियाँ से बढ़ाये वजन

नोट : यह लेख आपकी जानकारी बढ़ाने के लिए है, कृपया प्रयोग से पहले चिकित्सक से परामर्श जरूर ले

Leave a Reply