कैसे निकाले खुद को निराशा के अँधेरे से HOPE – holds on pain ends

कहते है सब कुछ खो देने से भी ज्यादा बुरा है उस उम्मीद को खो देना जिसके भरोसे आप सब कुछ दुबारा पा सकते है. उम्मीद/hope अँधेरे में छुपी वो किरण है जो उस समय तो दिखाई नहीं देती लेकिन इसकी रौशनी बहुत तेज होती है. लेकिन अक्सर बुरे समय में यह उम्मीद/hope निराशा में बदल जाती है ओर हमें अंधकार में धकेल देती है. जिसका नतीजा होता है की हम काम को अधुरा छोड़ देते है और भविष्य में उस काम को करने में कतराते है.

आज इसे हम एक कहानी की माध्यम से बताने की कोशिश करेंगे जिसके पात्र तो काल्पनिक है लेकिन हमें एक बहुत बड़ा सन्देश देते है.

 

story of 4 mashaal – The peace, believe, love and hope

 

एक राज्य में एक शांतिप्रिय राजा रहता था. दुश्मन सेना के बार बार आक्रमण से वह परेशान और दुखी था. उसे अपने राज्य को बचाने के लिए कोई रास्ता नहीं दिखाई दे रहा था जिसका सीधा असर उसकी प्रशासनिक व्यवस्था पर दिखाई दे रहा था. उसे लगने लगा की अब वह कुछ नहीं कर सकता और अब हार ही अंतिम सत्य है. एक दिन जब वह अपने कक्ष की ओर जाने लगा तो उसने रास्ते में लगी चार मशालो को बाते करते हुए सुना.

पहली मशाल बोली – मै शांति (peace) हूँ. यह राज्य युद्ध से घिरा हुआ है. अब मेरी इस राज्य को कोई जरुरत नहीं है. मेरा बुझ जाना ही बेहतर है. उसने ऐसा कहाँ और वह तुरंत बुझ गई.

 

दूसरी मशाल बोली – मै विश्वास (believe) हूँ. इस राज्य के राजा को अब अपने ऊपर आत्मविश्वास नहीं रहा और जहाँ विश्वास नहीं है वहां मेरा क्या काम. इसलिए मै भी बुझ रही हूँ.

 

hope story

 

तीसरी मशाल बोली – मै प्यार (love) हूँ. जहाँ शांति और भाईचारा नहीं है, लोग आपस में लड़ने कटने को तैयार है ऐसे राज्य में मेरा क्या काम. इसलिए मेरा बुझ जाना भी उचित ही होगा . ऐसे कहते ही वह भी तुरंत बुझ गई.

 

राजा दुखी हो उठा और आगे बड़ा तभी चोथी मशाल बोली – हे राजन निराश न हो. मै उम्मीद/hope हूँ और जब तक मै जल रही हूँ तब तक तुम्हे हिम्मत हारने की जरुरत नहीं है क्योंकि मेरी मशाल की आग से तुम बाकि बुझी मशालो को फिर से जला सकते हो. इसलिए आगे बढ़ो ओर मुझे उठाओ और बाकि मशालो को दुबारा से जलाओ.

 

 

दोस्तों कहानी के पात्र एक symbol की तरह है जो हम इंसानों की जिन्दगी से जुड़े हुए है. विपत्तियों के समय जब तनाव और चिंता बढ़ जाती है, जीवन में अशांति बढ़ने लगती है, रिश्तो में प्यार कम होने लगता है, आपसी मन मुटाव जड़ पकड़ने लगते है, कोशिशो के बावजूद अच्छे नतीजे और सफलता नहीं मिलती, हिम्मत डगमगाने लगती है तब एक ही चीज है जो हमें उस स्थिति में भी एक किरण देती है और वह है उम्मीद/hope. इसी के सहारे वह सब कुछ पाया जा सकता है जिसे हम चाहते है.

आज के भागते ज़माने में इंसान चाहता है की उसे जल्दी से जल्दी सब कुछ मिले. ओर न मिलने की situation में depression जैसी बीमारियाँ बढ़ने लगती है. ओर जो कमजोर दिल के होते है, भविष्य में कोई उम्मीद न दिखने की स्थिति में आत्महत्या जैसे कदम भी उठा लेते है.

अगर जीवन में कुछ पाना है तो मेहनत और लगन का होना बहुत जरुरी है लेकिन जब खोकर उस चीज को दुबारा पाना है तो मेहनत के साथ हिम्मत और उम्मीद होना भी उतना ही जरुरी है. इसलिए तो कहा जाता है उम्मीद पर दुनियां कायम है.

 

If you keep hope alive, it will keep you alive

 

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे जरुर शेयर करे. हमसे जुड़े रहने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करे और हमें free subscribe करे

 

you may also like

जानिए क्या है आपकी मंजिलों मे speed breaker

एक बेटी की अपनी मम्मी के नाम चिठ्ठी Social media viral story

कौन पहुँचा रहा है आपकी तरक्की मे बाधा – a life changing story

अपने talent को पहचाने – best inspirational story in Hindi

जिन्दगी में अकेलेपन का कारण समझाती एक कहानी Happy Ending

Leave a Reply