कहानी सकारात्मक जीवन जीने की story on positive thinking in hindi

हमारी जिन्दगी में अच्छी बूरी चीजे घटती रहती है कभी हमारा सामना सकारात्मक चीजो से होता है तो कभी नकारात्मक चीजो से, लेकिन जरा सोचिये की हमारा ध्यान सिर्फ नकारात्मक चीजो में ही लगा रहे और हम अपने सामने खड़ी सकारात्मक चीजो को नजरंदाज करते जाये. तो क्या हमारे जीवन में तब सब सकारात्मक होगा, क्या हम खुश रह पायेंगे. इसका उत्तर आपको मिलेगा नहीं. इसका जवाब है नहीं तब सिर्फ नकारात्मक और बुरा ही घटेगा और हम निराश और दुखी जीवन जियेंगे. इसी बात को इस पोस्ट में  सकारात्मक जीवन के लाभ की कहानी के माध्यम से समझाने का प्रयास किया गया है.

 

कहानी सकारात्मक जीवन से मिलने वाले लाभ की  positive thinking story  in hindi

 

एक दिन कॉलेज में एक प्रोफेसर ने कक्षा में प्रवेश किया और अपने सभी स्टूडेंट्स से कहा की आज वे उनका एक सरप्राइज टेस्ट लेने वाले है । सभी छात्र अचानक से टेस्ट की बात सुनकर घबरा गये. प्रोफेसर ने सभी छात्रों को प्रश्न पत्र सौंप दिया। और उसके बाद एग्जाम शुरू करने के लिए कहा। प्रश्न पत्र  देखकर हर छात्र के चेहरे पर आश्चर्य के भाव थे क्योकि  प्रश्न पत्र  में एक भी प्रश्न नहीं थे, पृष्ठ के केंद्र में सिर्फ एक ब्लैक डॉट था प्रोफेसर ने सभी के चेहरे पर हैरानी और उलझन के भाव देखे और उन्हें कहा – “मैं चाहता हूं कि आप अपने जवाब में उस चीज के बारे में  लिखे जिसे आप प्रश्न पत्र में देख पा रहे है ” उलझन में सभी छात्रों ने एक असाधारण कार्य शुरू किया। समय समाप्त होने पर , प्रोफेसर ने सभी छात्रों के उत्तर पत्रों को ले लिया और उन्हें एक एक करके सभी विद्यार्थियों के सामने जोर से पढ़ना शुरू कर दिया। सभी छात्रों ने अपने अपने जवाबो में प्रश्न पत्र में दिये  काले बिंदु को वर्णित किया हुआ था.

 

सभी के उत्तर पढ़ें जाने के बाद , कक्षा एकदम शांत थी. प्रोफेसर ने यह बताना शुरू किया, “मैं आपको इसे एग्जाम में कोई  ग्रेड या नंबर देने नहीं जा रहा हूं,  मैं इसके जरिये आपको सोचने के लिए कुछ देना चाहता हूं। आप सभी में से किसी ने भी प्रश्न पत्र  के सफेद भाग के बारे में नहीं लिखा, हर किसी ने उस ब्लैक डॉट पर ही अपना ध्यान केंद्रित किया है. क्या आप जानते है की आपने ऐसा क्यों किया है?? क्योकि अक्सर हमारे जीवन में भी  ऐसा ही होता है। हम सभी की जिंदगी में कई  श्वेत पत्र है जो हमें आनंद देते है, लेकिन हम इंसानों का ध्यान डार्क स्पॉट्स पर ही केंद्रित रहता हैं। यह डार्क स्पॉट्स एक बड़े सफ़ेद कागज की बहुत छोटी काली बिन्दुएँ है जो हमें दुःख, लालच, गुस्सा और इर्ष्या देती है. जिंदगी में  कई बार हम अपने दोस्तों या परिवार वालो के साथ बिताये गये अच्छे पलों को भुला देते है जो  सफ़ेद कागज का प्रतिक है और छोटे छोटे मन मुटावों को पकड़ कर बैठ जाते है जिससे सालो के बनाये गये रिश्ते एक दम टूट जाते है. यह सफ़ेद कागज की छोटी छोटी काली बिन्दुओं के सामान है.

 

सकारात्मक जीवन जीना जरूरी

हमारा जीवन एक उपहार है जिसे भगवान ने हमें प्यार और देखभाल के साथ दिया है। हमारे पास हमेशा खुश रहने के कोई न कोई मौके जरुर होते है लेकिन हमारी और पाने की चाहते इन मौको को ढक देती है.  इसके कारण हमारा जीवन के प्रति दृष्टिकोण नकारात्मक हो जाता है. यही वजह है की जब मैंने आप सभी को प्रश्न पत्र की जगह एक खाली सफ़ेद कागज और उसमे एक काली बिंदु दी तो आप सभी ने इतने बड़े सफ़ेद हिस्से को छोड़कर अपना ध्यान एक छोटे से काले बिंदु पर केन्द्रित किया.

 

 

इन सब के माध्यम से मै आप सभी को सिर्फ इतना बताना चाहता हूँ की कभी भी अच्छाई और सकारात्मकता से अपना ध्यान इतना भी न हटायें की महज एक छोटी से गलती या नकारात्मकता उस सभी पर हावी हो जाये. अत: नकारात्मक परिस्थितियों में भी सकारात्मकता की किरण ढूंढे तभी आप सफल और खुशी भरा जीवन जी पायेंगे. अपनी जिदगी के हर एक पल का आनंद सकारात्मक जीवन जीकर उठाये. नकारात्मक बातो को सोच कर अपने रिश्तो और व्यक्तिगत जीवन को हानि ना पहुचाये.

 

इन सकारात्मक कहानियो को भी पढ़िये

जीवन जीने का नजरिया बताता कप

टेंशन का गिलास – इसलिये चिंता छोडनी जरूरी है

 

 

दोस्तों उम्मीद करते है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा. आप अपने विचार हमारे साथ कमेंट्स के जरिये शेयर कर सकते है. अगर आप भी हमारे आने वाले सभी आर्टिकल सीधे अपने मेल में पाना चाहते है तो हमें free subscribe जरुर करें और हमारा फेसबुक पेज लाइक करें.

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

2 Comments

  1. vijay 29/01/2018
  2. Ijaj ahmad 18/03/2018

Leave a Reply