मुश्किले दिल के इरादे आजमाती है, स्वप्न के परदे निगाहों से हटाती है हौसला मत हार गिर कर ओ मुसाफिर! ठोकरे इंसान को चलना सिखाती है