यह लेख navjot singh sidhu की motivational speech का अंश है जिसमे उनके द्वारा  बताया गया  है की डर पर साहस के द्वारा काबू पाया जा सकता है।