आपमें कौन से गुण है – सात्विक. राजसिक या तामसिक

अर्थवेद और भागवत गीता के अनुसार हर इंसान में तीन गुण होते है जो उनका व्यवहार तय करते है. यह तीन गुण/Triguna है – सत्त्व, रजस् और तमस्. इन तीन गुणों के कांसेप्ट का उपयोग आधुनिक युग में मनोविज्ञानिको द्वारा इंसान की  पर्सनालिटी को  समझने के लिए भी किया जाता है जिसे Triguna theory of personality के नाम से जाना जाता है.

मनोविज्ञानिको के अनुसार जिस इन्सान में जो गुण हावी होता है उसी के अनुसार उसके व्यक्तित्व का विकास होता है. हर गुण की अपनी कुछ विशेषताएं होती हैं जो हर इंसान में पाई जाती है.

 

इन गुणों से जानिए अपनी पर्सनालिटी – Triguna theory of personality in hindi

 

सात्विक गुण – SATTVIC GUNA

सत्त्व गुण “आध्यात्मिक गुण” है.  जब सत्त्व गुण प्रभावशाली होता है, तब व्यक्ति में अच्छाई और देखभाल करने की सहज इच्छा होती है। जिस इंसान का मन और इंद्रियों पर कंट्रोल रहता है तब उसमे  सात्विक गुण प्रभावी होता है. ऐसे लोग न सिर्फ बुद्धिमान होते है बल्कि अपने ज्ञान को सभी लोगो के साथ बांटना भी पसंद करते है. ऐसे लोग अपने काम को गंभीरता से लेते है और कोई बहाने बाजी नहीं करते. ये हर स्थिति में शांत रहते है और सोच समझकर फैसले लेते है.

उदहारण के तौर पर – कबीर, महात्मा गाँधी, स्वामी विवेकानंद, सन्त  तुकाराम,

 

 

राजसिक गुण – RAJASIC GUNA

रजस् गुण “सक्रिय” गुण है. राजसिक गुण वाले लोग बहुत सक्रीय, गतिशील और कार्यशील होते है. अगर उनके पास कोई काम नहीं है तो वे बैचेन महसूस करते है. ऐसे लोग मसालेदार खाना काफी पसंद करते है. साथ ही इन्हें मनोरंजन का भी शोक रहता है. यह एक जगह पर चुप चाप बैठे रहना पसंद नहीं करते.

जिस व्यक्ति में राजसिक गुण प्रभावी रहता है उनमे  तरह की इच्छाएं, सपने, जोश और भावनाएं रहती है. ऐसे लोग अक्सर बिज़नस में जाना पसंद करते है.

 

 

तामसिक गुण – TAMASIC GUNA

तमस् गुण “भौतिक गुण” है. इस प्रकार के लोग काम करना पसंद नहीं करते.  साथ ही यह सही गलत का ज्ञान नहीं रखते. ऐसे लोग सुबह देर से उठते है. ये जिन्दगी में ज्यादातर असफलता का सामना करते है. इनकी निष्क्रियता और सुस्त आचरण के कारण लोग इनके साथ रहना पसंद नहीं करते.

तामसिक गुण वाले लोगो में बहाने बाजी, लापरवाही, असंवेदनशीलता, लक्ष्यहीन जीवन, और दुसरो की  आलोचना प्रभावी रहती है. कई बार ऐसे लोग नशे में लिप्त रहते है.

 

 

ये बात भी जानना जरुरी है की इंसान में सिर्फ एक गुण नहीं होता.  हर व्यक्ति में यह तीनो गुण/Triguna होते है. किसी में राजसिक गुण ज्यादा प्रभावी होता है तो किसी में तामसिक गुण. किसी भी इंसान की पर्सनालिटी उसका प्रभावी गुण तय करता है. लेकिन एक प्रभावी व्यक्तित्व के लिए तामसिक गुण कम से कम होना चाहिए.

 

दोस्तों उम्मीद करते है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा. कृपया इसे शेयर करें. अगर आप भी इस टॉपिक पर अपने विचार रखना चाहते है तो कृपया कमेंट्स करें और साथ ही हमारे आने वाले सभी आर्टिकल्स को सीधे अपने मेल में पाने के लिए हमें फ्री सब्सक्राइब जरुर करें.

 

यह भी जाने

हैंडराइटिंग से जानिए अपनी पर्सनालिटी personality through handwriting in hindi

क्या है आपकी personality – जानिए सिर्फ 2 मिनट मे

पसंदीता रंग से जाने अपनी पर्सनालिटी effects of color on mind

Facebook posts reveals our personality

व्यक्तित्व विकास – personality development tips in hindi

contact for web designing

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Leave a Reply