बादलो के सफेद और काले दिखने के पीछे क्या है वैज्ञानिक कारण

हमने अक्सर बादलो का रंग कभी सफेद तो कभी काला या ग्रे देखा होगा, ज्यादातर clouds सफेद होते है लेकिन जब आंधी या बारिश होने वाली होती है तो काले बादल छा जाते है,  लेकिन ऐसा क्यों होता है, इसके पीछे क्या वैज्ञानिक कारण है, इस पोस्ट मे हम इसी बात को जानेंगे.

why do clouds apears white in hindi

जिस बादल में  बर्फ बहुत अधिक होती है वो सफेद नजर आते है, clouds के सफेद रंग दिखने में सूर्य की मुख्य भूमिका होती है. बादल सफेद दिखाई देते है क्योकि बदलो में जो बर्फ या पानी की बूंदे होती है वो सूर्य से निकलने वाली लाइट की तरंग दैर्ध्य (wavelength) से बड़ी होती है इसलिए ये किरणो को प्रावर्तित (reflect) कर सभी रंगों को बिखेर (scatter)देती है. इससे सूर्य की किरणों के सभी सात रंग एक साथ परावर्तित होते है जो मिलकर सफेद रंग बनाते है. इस कारण ज्यादातर बादल हमें सफेद दिखाई देते है.

पृथ्वी को प्राकर्तिक रोशनी सूर्य से प्राप्त होती है जिसकी किरणों का रंग सफ़ेद होता है. सफेद रंग से स्पेक्ट्रम के विभिन्न रंगों की उत्पत्ती होती है, प्रिज्म की साहयता से हम देख सकते है की सफेद रंग सात रंगों का मिश्रण है उदाहरण – लाल (red), नारंगी (orange), पीला (yellow), पीला (yellow),  हरा (green), नीला (blue),  जामुनी (indigo), बैंगनी (violet),

why do clouds apears black & grey in hindi

जिन बदलो में पानी की मात्रा अधिक होती है वो ग्रे या कभी कभी काले भी नजर आते है ऐसा उनके घनेपन और ऊंचाई के कारण होता है. बादल जितने घने होते है, उतना अधिक ये सूर्य की रोशनी को परावर्तित करते है, जिससे काफी कम मात्रा में रोशनी इसमें घुस पाती है, नीचे जाने से पहले बहुत सी रोशनी को बादल अवशोषित कर लेते है. वर्षा वाले बादलो के नीचे मौजूद कणों में इतनी ज्यादा रोशनी मौजूद नहीं होती की वो आपकी आँखों तक बिखर पाए. तभी नीचे से आपको बादलो का आधार ग्रे दिखाई देता है.

loading...

बादल में से जो रोशनी नीचे जाती है, उसके हिसाब से बादल विभिन्न रंगों के दिखते है. जब किसी वस्तु द्वारा सूर्य से निकलने वाली किरणों के सातो रंगों को अवशोषित कर लिया जाता है तो वे काले रंग की दिखाई देती है. जो बादल सूर्य की किरणों को परावर्तित कर देते है वे सफेद रंग के दिखते है. इससे काफी कम रोशनी इन बादलो में घुस पाती है, हालाँकि जो बादल लम्बे और घने होते है इनमें पानी की काफी बुँदे होती है जो सूर्य के प्रकाश को अवशोषित (absorb) कर लेते है और काफी कम रोशनी बदलो के नीचे पहुचती है, जिससे बादलो का रंग हमें डार्क दिखाई देता है.

One Response

  1. kamal jyani 09/07/2017

Leave a Reply