why pornography is addictive and harmful 

Pornography का प्रयोग सही है या गलत खतरे का विषय यह नहीं है, खतरे का विषय है पोर्नोग्राफी के प्रयोग से मनुष्य पर पढने वाले प्रभाव। यह व्यक्ति को उसकी असल ज़िंदगी से कल्पनात्मक दुनिया की ओर मोड देता है, ये व्यक्ति की feelings को खत्म कर देता है और उसे अपनो से दूर कर देता है। जीवन मे अकेलेपन, खालीपन, और व्यक्ति के आत्मविश्वास को कम कर देता है। आपसी संबंधो मे दूरी पैदा करता है पोर्नोग्राफी देखना। पोर्नोग्राफी की बनावटी दुनिया व्यक्ति के भावनात्मक लगाव को कभी संतुष्ट नहीं कर सकती। अगर इसके प्रभाव की बात करे तो बढ़ती बलात्कार की वारदातो, हिंसक यौन घटनाओ, बच्चो के दिमागो, आपसी संबंधो, समाज और संस्कृति पर इसका नकारात्मक प्रभाव पढ़ता है।

 

क्यो पढ़ जाती है pornography की लत

सेक्स से दिमाग मे neurochemicals निकलते है। ये neurochemicals दिमाग पर उसी प्रकार कार्य करते है जिस प्रकार कोई drug करता है। मानव पोर्नोग्राफी का प्रयोग आनंद उठाने के लिए करता है, इसके द्वारा वह अपनी चिंताओ, उदासीनता, अपनी निराशाओ, कुंठा(frustration), अकेलेपन और ऊबने से छुटकारा पाना चाहता है। उस समय वह बनावटी आनंद मे खो जाता है और अपनी सारी परेशानियों को भूलकर एक बनावटी संसार मे चला जाता है। लेकिन वह यह नहीं जानता की जिन परेशानिओ से छुटकारा पाने के लिए वो ये आनंद उठा रहा है वो उसके लिए कई और सारी परेशानीया लाने वाली है। अगली बार जब ऐसी feelings दुबारा आती है तो यह पहले से भी ज्यादा मजबूत होती है जो व्यक्ति को pornography देखने के लिए आकर्षित करती है और इस प्रकार एक चक्र सा शुरू हो जाता है। समय के साथ इसका दिमाग के साथ तालमेल बैठ जाता है जो पूरी तरह से लत का रूप ले लेता है।

 

Pornography से बचना नहीं है आसान

Pornography देखने वाला व्यक्ति धीरे धीरे अपनी एक महत्वपूर्ण feeling को खत्म कर देता है ओर वो फीलिंग है emotions। उस व्यक्ति की परेशानिया, चिंताए, तनाव पहले से भी ज्यादा बढ़ जाते है। पोर्नोग्राफी की लत ठीक वैसे ही है जैसे की नशे या धूम्रपान की लत। एक बार लत पढ़ जाने से इसे आप अपनी इच्छा शक्ति के बावजूद इस लत को रोक पाने मे असमर्थ रहते है। और इसे छुड़ाने के लिए आपको उसी प्रक्रिया से गुजरना पढ सकता है जैसे की किसी नशे की लत को छुड़ाने की प्रक्रिया मे किया जाता है।

 

 

पोर्नोग्राफी डालती है बच्चो के दिमाग पर असर

तेज स्पीड इंटरनेट के जमाने मे ऑनलाइन पोर्नोग्राफी तक बच्चो की पहुच आसान हो गई है। इसने बच्चो के दिमाग पर बूरा असर डाला है। extreme पोर्नोग्राफी मे किया गया सेक्स का चित्रण वास्तवकिता से परे होता है और ज़्यादातर वयस्क इस तरह के सेक्स मे संलिप्त नहीं रहते। बच्चो के कम उम्र मे ही extreme pornography से परिचय हो जाने से उनकी मानसिकता बहुत प्रभावित होती है। यह उनके व्यवहार, सेक्स के प्रति उनकी सोच पर बूरा असर डालता है। इससे बच्चो के यौन हिंसा मे संलिप्त रहने का खतरा बढ़ सकता है।

 

Pornography को लेकर होती रही है बहस

Pornography को लेकर researchers मे बहस होती रही है। कुछ का मानना है की पोर्नोग्राफी की वजह से rapes की संख्या घटी है। the effects of pornography:  An International Perspective  नामक अध्यन मे यह कहा गया की pornography industry की संवृद्धि से united states मे 1975 और 1995 के बीच sexual assaults मे कमी आई है और जापान मे भी ऐसे परिणाम देखने को मिले है। लेकिन इसके विरुद्ध Robert peters (जो की morality in media के अध्यक्ष थे) ने माना की ये परिणाम pornography की बढ़ती मौजूदगी के अलावा और कुछ नही दिखाते और अगर rapes की वारदात मे अगर कमी आई है तो वो केवल इस वजह से की इसे रोकने के लिए जबरदस्त पर्यत्न किए गए है और इन प्रयत्नो मे समुदाय, स्कूल आधारित कार्यकर्मो, मीडिया कवरेज, डीएनए एविडेन्स (dna evidence), कठोर कानून के लागू होने और लंबी जेल की सजा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

 

कुछ लोग pornography का समर्थन करते है तो कुछ के लिए pornography बूरी है। pornography ना केवल मानसिकता को प्रभावित कर सकती है बल्कि इसके शरीर पर भी बूरे प्रभाव पढ़ते है, erectile dysfunction जैसी बीमारियो को पैदा कर सकती है इसकी लत। यह वैवाहिक जीवन पर भी असर डाल सकती है और आपसी संबंधो मे भी दूरिया पैदा कर सकती है। Pornography सही है या गलत। Pornography से बचने के लिए क्या करे। कैसे रखे अपने को या अपने बच्चो को pornography videos देखने से दूर। ये कुछ प्रमुख प्रश्न है। चूंकि इसके साथ आनंद जुड़ा हुआ है इसलिए शुरू शुरू मे इसे देखना अच्छा लगता है लेकिन कब आप इसकी लत मे पढ़ जाए ये आपको भी नहीं पता चलेगा। इसलिए अपने दिमाग का स्विच ऑन रखिए। स्वस्थ और सुरक्षित रहिए। हमे अपने comments के द्वारा जरूर बताइए की pornography देखना अच्छा है या गलत, फैसला आप पर है।

 

Did you enjoy this article?
सभी नए Posts अपनी E-Mail पर तुरंत पाने के लिए यहाँ अपनी E-mail ID लिखकर Subscribe करें। कृपया यहाँ Subscribe करने के बाद अपनी E-mail ID खोलें तथा भेजे गये वेरिफिकेशन लिंक पर क्लिक करके वेरीफाई करें।
WHATSKNOWLEDGE .COM का WHATSAPP GROUP JOIN करे और पाए सभी आर्टिकल्स सीधे मोबाइल पर हमें WHTASAPP करे 7065908804 पर और लिखे Add me to whatsknowledge group
3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *