जानिये टार्डीग्रेड के बारे में – सूरज के खत्म होने तक जीवित रह सकते है रिसर्च

पृथ्वी पर विविध प्रकार के जीव मौजूद है और ऐसे ही जीवो में एक है टार्डीग्रेड (tardigrade) इसे जलरीछ भी कहा जाता है, टार्डीग्रेड पानी में रहते है, इनके आठ हाथ और पैर होते है जिनमे चार से आठ पंजे हो सकते है. इनकी खास बात ये है की इन्हें नष्ट नहीं किया जा सकता और ये बाहरी अंतरिक्ष में भी बचे रह सकते है. ये भोजन और पानी के बिना 30 सालो तक जीवित रह सकते है. ये जीव शून्य से लेकर 150 डिग्री सेल्सियस के तापमान को भी सहन कर सकता है. इस जीव की लंबाई बढ़कर अधिकतर 0.5 मिलीमीटर हो सकती है.

टार्डीग्रेड कहा निवास करते है

ये जीव समुद्र और झीलो के नीचे निवास करते है, वैसे ये जीव किसी भी वातावरण और परिस्थितियों में जीवित रह सकते है. लेकिन ये जीव झीलों के नीचे स्थित अवसादो, काई के नम टुकडो और ज्यादातर पानी वाले वातावरण में रहना पसंद करते है.

क्या है टार्डीग्रेड के ऊपर की गयी रिसर्च

हाल में किये गए वैज्ञानिको के शोध के अनुसार टार्डीग्रेड का अस्तित्व सूर्य के खत्म होने तक रहेगा. वैज्ञानिको का यह विश्वास है की टार्डीग्रेड पृथ्वी पर अंतिम जीवित रूप होंगे और मनुष्यो से भी अधिक समय तक जीवित रहेंगे. उन्होंने ये भी माना की ये विशाल तबाही में भी जिंदा रह सकते है. रिसर्च यह भी बताती है की मनुष्यो की तुलना में टार्डीग्रेड दस बिलियन सालो तक जीवित रहेंगे.

ये रिसर्च ऑक्सफ़ोर्ड और हार्वर्ड विश्वविद्यालय द्वारा की गयी है. ये रिसर्च जर्नल साइंटिफिक रिसर्च में प्रकाशित हुई है.  इस रिसर्च के मुताबिक टार्डीग्रेड उन परिस्थियों और विशाल तबाहियो में भी जिंदा रह सकते है जो की पृथ्वी पर रहने वाले दुसरे प्राणियों जीव जंतुओ के लिए घातक है. उदाहरण के लिए क्षुद्र ग्रह, सुपरनोवा यानि तारो के रूप में विस्फोट,  गामा किरण विस्फोट आदि. इस रिसर्च से मंगल और अन्य ग्रहों जहाँ मानव जीवन संभव हो की संभावना को बल मिलेगा.

इन लेखो को भी पढ़े

जानिये क्यों दिखते है बादल सफेद और काले

आत्मा, पुनर्जन्म और विज्ञान – आत्मा होने का वैज्ञानिक साक्ष्य

 

 

Leave a Reply