जानिए दमा के कारण लक्षण और इलाज Asthma In Hindi

अस्थमा/asthma एक ऐसी स्थिति है जिसमें रोगी का वायुमार्ग संकीर्ण हो जाता है जिससे अतिरिक्त बलगम उत्पन्न होती हैं। इस स्थिति में  सांस लेने में मुश्किल होती  है और खांसी, घरघराहट और सांस की तकलीफ उत्पन्न होती है। ये लक्षण दिन में कुछ बार या  सप्ताह में कुछ बार हो सकते हैं। व्यक्ति के आधार पर, ये रात में या ज्यादा शारीरिक काम के दौरान  बदतर हो सकते हैं।

अस्थमा को समझने के लिए, आपको सांस लेने पर क्या होता है इसके बारे में कुछ समझने की आवश्यकता होगी. आम तौर पर, आप जब साँस  लेते हैं, हवा आपके नाक के  जरिये आपके वायुमार्गों में गले से होकर नीचे जाती है. आपके फेफड़ों में बहुत से छोटे वायु मार्ग हैं जो हवा से ऑक्सीजन को आपके रक्त प्रवाह में लाने में मदद करते हैं। अस्थमा के लक्षण तब होते हैं जब आपके वायुमार्ग की lining में सूजन हो जाती है और उनके चारों ओर की मांसपेशियों कस जाती है। तब बलगम वायुमार्गों को भरता है, जिससे हवा की मात्रा कम हो जाती है। यह स्थिति  अस्थमा उत्पन्न करती है जिससे छाती टाइट  हो जाती है और asthma  के लक्षण जैसे खांसी, सास लेने में दिक्कत आदि दिखाई देते है

दुनिया भर में 100 से 150 मिलियन लोग  अस्थमा से पीड़ित है और यह संख्या लगातार बढ़ रही है। भारत में 15-20 मिलियन लोग अस्थमा का शिकार  है।

 

Symptoms of asthma in hindi – अस्थमा के लक्षण

दमा  के लक्षण हर व्यक्ति में अलग हो सकते हैं। रोगी को ये लक्षण अकसर भी हो सकते हैं, केवल कुछ समय के लिए भी हो सकते  हैं – जैसे व्यायाम करते समय – या हर समय भी लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

 

अस्थमा के लक्षणों में शामिल हैं:

सांस की कमी

छाती में कठोरता या दर्द

खांसी या घरघराहट  के कारण सोने में परेशानी

श्वास छोड़ने के दौरान सीटी  वाली आवाज़ (घर में अस्थमा का एक आम संकेत है)

थकान

 

Cause of asthma in hindi – अस्थमा के कारण

दमा के लिए कोई भी कारण नहीं पहचाना गया है। एक्सपर्ट्स के अनुसार  श्वास की यह स्थिति विभिन्न कारकों के कारण होती है। इन कारकों में शामिल हैं:

 

Genetic – आनुवंशिक

पारिवारिक इतिहास दमा के लिए एक जोखिम कारक है. अगर माता-पिता को दमा होता है, तो बच्चो में यह विकसित होने की अधिक संभावना रहती हैं।

 

History of viral infections – वायरल संक्रमण

बचपन के दौरान हुए वायरल संक्रमण  इस स्थिति को विकसित करने की अधिक संभावना रखते हैं।

 

Hygiene hypothesis – स्वच्छता परिकल्पना

इस परिकल्पना के अनुसार  बच्चों को अपने प्रारंभिक महीनों या वर्षों में पर्याप्त बैक्टीरिया से एक्सपोजर न होने के काऱण उनकी प्रतिरक्षा प्रणाली asthma और अन्य स्थितियों से लड़ने के लिए पर्याप्त मजबूत नहीं हो होती है।

बचपन में जीवाणुरोधी एंडोटोक्सिन का एक्सपोजर अस्थमा के विकास को रोक सकता है, लेकिन बुढ़ापे में एक्सपोजर ब्रोंकोकोनस्ट्रिक्शन को उत्तेजित कर सकता है

 

Medical conditions – मेडिकल कंडीशन

अस्थमा उन लोगों में काफी अधिक देखने को मिलता है जिन्हे एक्जिमा या hay fever हुआ हो.  हाल के वर्षों में मोटापा और अस्थमा के बीच भी संबंध पाए है।  रिसर्च के अनुसार ज्यादा चर्बी भी दमा रोग को विकसित करती है

 

Environmental factors – पर्यावरणीय कारक

कई पर्यावरणीय कारक जैसे   एलर्जी, वायु प्रदूषण, रसायन आदि अस्थमा के विकास  से जुड़े हुए हैं। गर्भावस्था के दौरान धूम्रपान अस्थमा के लक्षण विकसित करता है. साथ ही  यातायात प्रदूषण या उच्च ओजोन स्तर जैसे कारकों से कम वायु गुणवत्ता  होने से श्वास संबंधी रोग होने की संभावनाएं  रहती है.

 

 

Asthma triggers in hindi – अस्थमा ट्रिगर्स

कुछ स्थितियां और वातावरण भी दमा  के लक्षणों को ट्रिगर कर सकते हैं। इन ट्रिगर्स में शामिल हैं:

 

बीमारी – फ्लू और निमोनिया जैसी श्वसन बीमारियां अस्थमा के दौरे को ट्रिगर कर सकती हैं।

व्यायाम –  ज्यादा मूवमेंट asthma के रोगियों को सांस लेने  में और  अधिक कठिन बना सकती है।

हवा में उत्तेजित करने वाले पर्दार्थ  – अस्थमा से पीड़ित  लोग रासायनिक धुएं, गंध और धुएं जैसे पदार्थो  के प्रति संवेदनशील हो सकते हैं।

मौसम की स्थिति –  बहुत अधिक आर्द्रता या कम तापमान जैसी स्थितियां अस्थमा को ट्रिगर कर सकती हैं।

भावनाएँ–  चिल्लाना , ज्यादा हसना  या ज्यादा रोना दमे को ट्रिगर कर सकते है

 

Treatment of asthma in hindi – दमा का इलाज

अस्थमा ठीक नहीं हो सकता है, लेकिन इसके लक्षणों को नियंत्रित किया जा सकता है। चूंकि अस्थमा अक्सर समय के साथ बदलता है, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने डॉक्टरों के साथ अपने  लक्षणों को साझा करें  और उसके अनुसार उपचार करवायें .

 

अस्थमा के उपचार तीन प्राथमिक श्रेणियों में आते हैं: श्वास अभ्यास ( breathing exercises) , बचाव या प्राथमिक चिकित्सा उपचार (first aid treatments), और दीर्घकालिक अस्थमा नियंत्रण दवाएं ( long-term asthma control medications).

आपके डॉक्टर आपकी  उम्र  और आपके लक्षणों के आधार पर आपके लिए उपचार का सही तरीका निर्धारित करते है

 

Breathing exercises – श्वास अभ्यास

ये अभ्यास आपको फेफड़ों में और अधिक हवा प्राप्त करने में मदद कर सकते हैं। समय के साथ, यह फेफड़ों की क्षमता में वृद्धि और गंभीर अस्थमा के लक्षणों में कटौती करने में मदद कर सकता है। आपका डॉक्टर या व्यावसायिक चिकित्सक अस्थमा के लिए इन श्वास अभ्यासों को सीखने में आपकी सहायता कर सकता है।

 

First aid treatments – प्राथमिक चिकित्सा उपचार

इन दवाओं का उपयोग केवल अस्थमा अटैक  की स्थिति में किया जाता है । ये रोगी को  ठीक से सांस लेने में मदद करने के लिए इस्तेमाल की जाती है  ।  इनमे rescue inhalers और nebulizers शामिल है. डॉक्टर  की परामर्शानुसार रोगी asthalin inhaler का प्रयोग कर सकते है.

 

Long-term asthma control mediations – दीर्घकालिक अस्थमा नियंत्रण दवाएं

दमे के लक्षणों को रोकने के लिए इन दवाओं को रोजाना लिया जाता है । डॉक्टर अस्थमा की गंभीरता को देखते हुए रोगी के लिए इन दवाइयों को prescribed करते है.

 

 

Management of asthma in hindi – अस्थमा प्रबंधन

 

चूंकि शोधकर्ताओं द्वारा  अभी तक अस्थमा के सटीक कारणों की पहचान नहीं की जा सकि है, इसलिए यह जानना चुनौतीपूर्ण है कि कोई व्यक्ति दमा की स्थिति को कैसे रोक सकता है।

 

हालांकि, अस्थमा के अटैक को रोकने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए जैसे

 

ट्रिगर्स से बचें –  अतीत में श्वास की समस्याओं का कारण बनने वाले रसायनों, गंधों या उत्पादों से बचना चाहिए

 

ऐलर्जन के संपर्क में कमी –  यदि आपने ऐसे तत्वों की पहचान  पहचान कर ली  है, जैसे कि धूल या मोल्ड, जो अस्थमा के दौरे को ट्रिगर करता है, तो उनसे जितना संभव हो उतना बचे ।

 

धूम्रपान – धूम्रपान भी दमा का एक कारण है. इसलिए तंबाकू, सिगरेट, बीड़ी, गुटके आदि  से दुरी बनायें

 

तनाव –  तनाव दमा के रोगियों के लिए हानिकारक है । ज्यादा टेंशन से  अस्थमा के लक्षण रोगी पर हावी होते  इसलिए तनाव को अपने ऊपर हावी न होने  दे

 

मोटापा – अमेरिकी थोरैसिक सोसाइटी (एटीएस) की रिपोर्ट अनुसार  asthma के विकसित होने का एक  कारण  मोटापा भी  है। इसके अलावा, मोटापे से ग्रस्त लोगों का अस्थमा अधिक गंभीर और इलाज के लिए और अधिक कठिन हो सकता है। इसलिए स्वस्थ वजन बनाए रखने से रोगी की हालत को प्रबंधित करना आसान हो सकता है।

 

तो दोस्तों उम्मीद करते है यह  जानकारी  आपके लिए फायदेमंद साबित होगी. अगर आप भी इस टॉपिक पर अपने विचार या सुझाव साझा  चाहते है तो  कृपया कमैंट्स के जरिये अपनी बात रखे  और हमारे आने वाले सभी   आर्टिकल्स की सीधी जानकारी  अपने मेल में पाने  के लिए हमें फ्री जरूर  सब्सक्राइब करें

 

यह भी जाने

जानिए डायबिटीज के लक्षण कारण इलाज़ और बचाव Diabetes in hindi

Best tips for weight lose in Hindi – कैसे घटाएँ वजन

High Blood Pressure के कारण, लक्षण और उपचार

ऐसे पायें एसिडिटी से छुटकारा Home remedies for acidity/gas in hindi

खांसी और जुकाम को रोकने के 15 प्रभावशाली घरेलू उपाय

Leave a Reply