सोच एक बदलाव की शुरुआत – self improvement in hindi

एक दिन सभी शिष्य अपने गुरु के पास गए और बोले की वो दुनिया भर के सभी धार्मिक स्थानो पर जाना चाहते है ताकि उनका मन स्वच्छ और पवित्र हो जाए और उनके अंदर एक बदलाव (improvement) आ सके। गुरु चंद पलो के शांत रहे और फिर उन्हे एक एक करेला दिया और बोले की जिस जिस जगह तुम घूमो तो अपने साथ ये करेला जरूर रखना। इसका कारण मै तुम्हें तुम्हारे वापस आने के बात बताऊंगा। सभी ने उनकी आज्ञा का पालन किया और उनके कहे अनुसार ही किया। वो जिस जिस पवित्र जगह गए, उन्होने करेले को भी अपने साथ रखा। पूरी यात्रा करने के बाद वापस जब वो लोटे तो गुरु जी ने उनसे पूछा की जिस काम के लिए वो गए थे क्या वो  पूरा हुआ। क्या उनका मन शांत हुआ? सभी के चहरे पर मायूसी थी। तभी गुरु ने एक शिष्य से कहा की सभी से वो करेला ले लो और उसकी सब्जी बनाकर दो। शिष्य ने ऐसा ही किया। खाते ही गुरु ने गुस्से से कहा सभी तीर्थ स्थानो पर ले जाने के बावजूद भी की इन करेलो का स्वाद तो बहुत कड़वा है और उनसे इसका कारण पूछा। सभी शिष्य हैरान थे। तभी उनमे से एक ने कहा की करेला तो प्राक्रतिक रूप से ही कड़वा होता है। तीर्थ यात्रा पर जाने से इसका स्वाद तो नहीं बदल सकता। तभी गुरु ने कहाँ की बिलकुल सही। मै भी तुम्हें यही समझाना चाहता हूँ। जब तक इंसान अपने आप मे खुद बदलाव नहीं लाएगा कोई भी गुरु या यात्रा उसकी ज़िंदगी नहीं बदल सकती। सभी तीर्थ यात्राएं वास्तव मे  हमारे मन के अंदर ही बसी है। जरूरत है सिर्फ ध्यान से देखनी की.

गुरु शिष्य की कहानी हमारी ज़िंदगी पर भी लागू होती है। हम कई बार अपने अंदर कुछ बदलाव(improvement) तो लाना चाहते है लेकिन लाने की ठीक से कोशिश नहीं करते और हज़ार तरीके के बहाने तैयार कर लेते है। कोई अच्छा माहौल न होने का तर्क देता है तो कोई संसाधन की कमी का।

जिस तरह नीम और करेले का स्वाद कड़वा, इमली का स्वाद खट्टा और हर फल का अपना स्वाद होता होता है ठीक उसी तरह हर इंसान का स्वभाव भी अलग अलग होता है। मनोविज्ञान के अनुसार कोई भी इंसान अपने आप को बदल नहीं सकता सिर्फ अपने आप मे सुधार(improvement) कर सकता है। और सुधार (improvement) करने के लिए अपनी कमियों को पहचानना जरूरी है जो सिर्फ हम खुद ही कर सकते है।

अपने जीवन को बदलने को बदलने के लिए आपको केवल एक इंसान की जरूरत होती है वह है आप खुद – रूमी

नजरों को बदलो तो नजरिए बदल जाते है

सोच को बदलो तो सितारे बदल जाते है

कशतीयां बदलने की जरूरत नहीं है

अपने आप को बदलो

तो किनारे खुद-ब-खुद मिल जाते है।  

अगर आपको यह article उपयोगी लगा हो तो कृपया इसे अपने दोस्तो के साथ शेयर कीजिये। आप अपनी राय, सुझाव या विचार हमे comments के माध्यम से भेज सकते है.

Read more

Power Of Focus – Focus चीजों को possible बनाता है

जानिए क्या है आपकी मंजिलों मे speed breaker

कौन पहुँचा रहा है आपकी तरक्की मे बाधा – a life changing story

3 Comments

  1. Suraj 21/02/2016
  2. Pratik Rajput 04/06/2016
  3. Dr. RATNESHWAR PRASAD SINHA 20/04/2017

Leave a Reply