इन साइकोलोजिकल तरीको से बढ़ाएं अपनी एकाग्रता Tips to increase concentration power in hindi

बल्ब से प्रकाश की किरणें सभी दिशाओं में निकलती हैं और ऊर्जा फैलाती है। यदि आप बल्ब से पांच फीट दूर खड़े हैं, तो आप प्रकाश देख सकते हैं लेकिन गर्मी महसूस नहीं कर सकते हैं, भले ही बल्ब के केंद्र यानि फिलामेंट में बड़ी गर्मी है। आप जैसे इस प्रकाश के निकट जाएंगे वैसे इसकी रोशनी आपके पास ओर तेजी से आएगी. इसी तरह  आपके मन और दिमाग में भी असीम  शक्ति है, लेकिन यह सभी दिशाओं में विलुप्त हो जाती है। दिमाग किसी एक विषय पर गहराई पर सोचने या केन्द्रित होने  की बजाय, एक ही समय पर  अलग-अलग चीजों के बारे में सोचता है। इसलिए, औसत दिमाग अपनी शक्ति का पूरा उपयोग नहीं करता है। इसे ही हमारी एकाग्रता यानि concentration के नाम से जाना जाता है

ज़िंदगी में हम जो कुछ भी आप करते हैं उसके लिए एकाग्रता महत्वपूर्ण है क्योंकि यह दिमाग को सभी दिशाओं में बिना किसी उद्देश्य से घूमने से रोकती है.

 

What is concentration in hindi – क्या होती है एकाग्रता

एकाग्रता हमारी वह योग्यता है जिसके द्वारा हम किसी एक वक़्त मे एक ही चीज़ पर ध्यान देते है, पढ़ते है या याद करते है. यह हमारी वह योग्यता है जिससे हम महत्वपूर्ण चीजों पर ध्यान देते है और दूसरी चीजों को नज़रंदाज़ करते है. हम अपनी पूरी जिन्दगी में कई चीज़े देखते है,पढ़ते है, सीखते है लेकिन यह जरूरी नही की हमे हर चीज़ याद रहे।

स्कूल जाने वाले बच्चे अधिकतर कहते है कि उन्हें चीज़े समझ तो आती है पर याद नही रहती या फिर जल्दी से भूल जाते है और एक स्कूल काउन्सलर होने के नाते हमे इस सामान्य समस्या को देखना होता है। तो आईये जानते है की वे कौन से कारण है जो बच्चो या युवाओ के concentration level मे समस्याएँ पैदा करते है।

 

Reasons of lack of concentration and focus in students – एकाग्रता में कमी के कारण

 

1.थकान एवं भावनात्मक तनाव

हमारी रोजमर्रा की जिन्दगी में पढाई के अलावा भी कई काम होते है जिनकी वजह से हम शारीरिक एवं मानसिक रूप से थक जाते है और उसके बाद जब पढने बैठेते है तो थकान की वजह से मन एकाग्र नही रह पाता. इसके अलावा कोई भावनात्मक तनाव हो जैसे कोई टीचर या पेरेंट्स पिटाई कर दे या फिर किसी दोस्त से झगडा हो जाए तो भी पढाई में मन एकाग्र करने में बहुत समस्या होती है.

 

2. कम नींद लेना

कम नींद लेना भी मन को एकाग्र करने में परेशनी पैदा करता है. तकनीक के इस ज़माने मे लगभग हर व्यक्ति के पास अपना एक फ़ोन है. स्टूडेंट्स कई बार रात को जाग कर खुद को फ़ोन में या टीवी में व्यस्त रहते है. उसके बाद भी उनके मन में एक उत्साह बना रहता है जिससे नींद आने में 30-40 मिनट लग जाते है. रात में कम सोएंगे तो दिन में नींद आएगी और पढाई में ध्यान नही लगा पायंगे. परीक्षा के समय में स्टूडेंट्स देर रात तक पढाई करते है और सोचते है कि वों ज्यादा पढ़ पायंगे बल्कि ऐसा नही होता और तो वो नींद की वजह से परीक्षा में भी अच्छा प्रदर्शन नही कर पाते.

 

3. ठीक से खाना न खाना

हमारे शरीर और दिमाग के लिए संतुलित भोजन बहुत जरूरी है और यदि हम ठीक समय पर ठीक से खाना नही खायेंगे तो हमारे शरीर में कमजोरी होगी जिसके कारण थकावट भी जल्दी महसूस होगी, मन एक जगह concentrate नही रहगा और चीज़े समझने और याद करने में समस्या होगी.

 

4. शरीर में दर्द

यदि हम पढने बैठे और हमारे शरीर के किसी हिस्से में दर्द हो रहा हो या चोट लग जाए तो भी मन को एकाग्र करने में बहुत समस्या आती है क्योकि हम लगातार उसी बारे में सोचते रहते है.

 

5. वातावरण

हमारे आसपास की चीज़े भी कई बार एकाग्रता भंग कर देती है जैसे कि आप पढने बैठे और अचानक से कोई आपको काम बता दे. या पड़ोस में कही शोरगुल होने लगे या आपकी कोई मनपसन्द फिल्म टीवी पर आ रही हो ऐसी परिस्थिति में मन एकाग्र करने में बहुत कठिनाई होती है.

 

ये कुछ सामान्य परेशानिया थी जो हर किसी के साथ होती है. इसके अलावा भी हर किसी की अपनी अपनी परेशानिया होती है. आइये अब हम आपको कुछ ऐसी एक्सरसाइज के बारे में बताते है जिससे आप कुछ हद तक अपने मन को एकाग्र कर सकते है.

 

How to increase concentration power in hindi – इन एक्सरसाइज से बढ़ाएं अपनी एकाग्रता

 

  1. कुर्सी पर बैठें

यह एक क्लासिकल एक्सरसाइज है जिसका काफी समय से इस्तेमाल किया जा रहा है. इसमे हमे कुछ समय के लिए एक कुर्सी पर बैठना होता है, यह इतना आसान भी नही है. सबसे पहले हमे बिलकुल आराम और सहज होकर बैठना होता है, कोई भी शारीरिक क्रिया नही होती और मन को एकदम एकाग्र करना होता है और ऐसा रोज कम से कम 15 मिनट तक करना होता है।  इससे हमे मन को concentrate करने में बहुत मदद मिलती है.

 

 

  1. एक जगह नज़र जमाना

यह एक्सरसाइज 2 तरीको से की जाती है पहले तरीके में कुर्सी पर बैठ कर अपने हाथ को सामने की और कंधे तक उठा कर अपनी अपनी उँगलियों पर फोकस करना होता है. ऐसा तब तक करे जब तक आप सहज महसूस कर रहे है उसके बाद दुसरे हाथ के साथ भी यही क्रिया दोहराए. इस एक्सरसाइज को 15 से 20 मिनट रोज करने से concentration level  बड़ाया जा सकता है

इसका दूसरा तरीका है अपने हाथ में कांच के गिलास में पानी भर ले और कोशिश करे कि पानी कम से कम हिले और फिर ऐसा दुसरे हाथ से भी करे.

इन दोनों एक्सरसाइज को करने का उद्देश्य यह है कि हम अपने मूवमेंट्स को काबू में कर सकें. और गैरजरूरी मूवमेंट्स पर काबू पाया जा सके।

 

 

  1. खुद पर ध्यान लगाना

इस एक्सरसाइज में आप बिलकुल सहज होकर एक जगह लेट जाए और अब धीरे- धीरे अपनी सांसो पर focus कीजिये और कुछ देर ऐसा करते रहे. उसके बाद अपनी ह्रदय गति पर फोकस करे और फिर धीरे- धीरे अपनी सांसे धीमी महसूस करे और फिर अपने शरीर में खुद की गति पर फोकस करे. ये एक्सरसाइज रोज करने से आपको काफी मदद मिल सकती है.

 

 

  1. बीट द क्लॉक

इस Exercise के द्वारा आप अपने आप को सचेत रख सकते है जो आपके ध्यान एकाग्र करने की शक्ति को बढ़ाता है. एक अलार्म घडी लीजिये।  उसमे 30 से 40 मिनट टाइम सेट कीजिये और जो भी काम कर रहे है उस पर फोकस कीजिये और कोशिश कीजिये की टाइम खत्म होने से पहले वो काम खत्म हो जाए. इस एक्सरसाइज में न सिर्फ आप सचेत रहेंगे बल्कि अपने काम में भी ध्यान लगाये रखेंगे और इससे आप अपना टाइम मैनेजमेंट भी सुधार सकते है.

 

 

  1. मेडिटेशन

एकाग्रता/ concentration को बढ़ाने के लिए मेडिटेशन को एक उत्तम तकनीक के तौर पर प्राचीन समय से ही देखा जाता है। इसके अनेकों फायदे है। आप मेडिटेशन से संबंधित जानकारी और इसकी विधि हमारे इस पोस्ट मे पढ़ सकते है।

क्यो और कैसे करे मेडिटेशन– Meditation in Hindi For Beginners

 

ध्यान एकाग्र करने के लिए और भी कई चीजे है जिसे आप अपनी सहूलियत के हिसाब से इस्तेमाल कर सकते है ताकि आपकी जिन्दगी मे ऐसी समस्याए न आयें और आप सचेतन अवस्था मे रह कर अपने काम मे आसानी से फोकस कर पाएँ.

 

 

SUBSCRIBE करें हमारा  YouTube चैनल Manochetna और जानिए बेहतर जिन्दगी जीने के मनोविज्ञानिक तरीके.

 

तो दोस्तो उम्मीद करते है आपको यह आर्टिक्ल पसंद आया होगा। अगर आपके कोई विचार, सुझाव या सवाल है तो आप हमारे साथ कमेंट के जरिये साझा कर सकते है। हमारे आने वाले आर्टिक्ल को सीधे अपने मेल मे पाने के लिए हमे फ्री subscribe करे और हमसे जुड़े रहने के लिए हमारा facebook page like करें

 

About author

मानसिक स्वास्थ्य

SHUBHAM PRAJAPATI

Graduated and post-graduated in Applied Psychology from the University of Delhi, Currently working as a school counselor at Hindon Public Sr Sec School.

 

 

यह भी जाने

Power Of Focus – Focus चीजों को possible बनाता है

मन और शरीर को कैसे नियंत्रित किया जाए how to control mind in hindi

त्राटक मेडिटेशन क्या है और कितने प्रकार के होते है, इसके क्या लाभ है

कैसे पाए लोगों के बीच बोलने के डर से छुटकारा Tips to overcome fear of public speaking in hindi

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Leave a Reply