मनोविज्ञान क्या कहता है

मनोविज्ञान के अनुसार मनुष्य के दिमाग मे 24 घण्टे हलचल रहती है। दिमाग किसी न किसी काम मे, सोच मे या किसी सपने को बुनने मे लगा रहता है । इन सब चीजों के बीच हमारे दिमाग मे अशांति पैदा होती है। ओर यह अशांति झगड़े की वजह बनती है। नीचे कुछ कारण दिये गए है जिससे हमारे दिमाग मे अशांति उत्पन्न होती है। और छोटी छोटी बातो पर लड़ाई – झगड़ा होने लगता है:

MANOVIGYAN

  1. मनोचिकित्सक के अनुसार तनाव का लोगो पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है । तनाव के कारण लोग या तो खुद को नुकसान पहुचाते है, या तो दूसरों को नुकसान पहुचाने की कोशिश करते है । और दूसरों को नुकसान पाहुचने के लिए गुस्सा और हिंसा का सहारा लेते है. दोस्तो और परिवार वालों से भी छोटी छोटी बातो पर लड़ाई करते है.
  2. इंसान मे अशांति का प्रमुख कारण है frustration । यह एक भावनात्मक अवस्था है । यह तब उत्पन्न होती है जब व्यक्ति अपने लक्ष्य की प्राप्ति नहीं कर पाता है । परिणामस्वरूप दूसरों पर गुस्सा निकालता है । और छोटी छोटी बातो पर लड़ने लगता है ।
  3. छोटी छोटी बातो पर लड़ाई झगड़ा करना इंसान के व्यक्तित्व पर भी निर्भर करता है । कुछ लोग दूसरों की तुलना मे ज्यादा उत्तेजीत (aggressive) होते है ।
  4. मनोवैज्ञानिकों के अनुसार कुछ लोगो मे आत्मविश्वास दूसरों की तुलना मे कम होता है. और वो अपने को असुरक्षित महसूस करते है । वह लोग छोटी छोटी बातो पर लड़ कर अपने को सुरक्षित करने की कोशिश करते है ।
  5. कुछ लोगो की प्रव्रत्ति होती है वह दूसरों के व्यवहार को स्व्भाविक बताते है । और अपने व्यवहार को situational, उदहारण के लिए जब कोई पड़ोसी उनके घर के आगे कूड़ा फेंक देता है तो वो उसे स्व्भाविक बताते है । चाहे वो गलती से ही गिरा हो । और अगर खुद वही काम करते है तो अपनी सफाई देने लगते है ।
  6. Observation या टीवी देखने से भी छोटी छोटी सी बातो को लेकर लड़ने की प्रव्रत्ति लोगो मे आती है । और तो और अपनी बात साबित करने के लिए भी लोग लड़ पड़ते है ।

 

loading...

 

3 Comments

  1. Mobin Khan 25/02/2016
  2. Pratik Rajput 04/06/2016
  3. praful 04/01/2017

Leave a Reply