अनचाही यौन कल्पनाओ से कैसे निपटे how to deal with Unwanted sexual Fantasies.

सपनों की तरह ही, यौन कल्पनाएँ भी एक मनुष्य के जीवन का हिस्सा होती है। एक शोध मे 95% लोगो ने sexual Fantasies को स्वीकारा है लेकिन क्या होता है जब ये कल्पनाएं किसी पर हावी होने लगती है और ये कल्पनाएँ उन्हे परेशान कर देती है जिससे उनका खुद पर नियंत्रण खत्म होने लगता है। उनके मन मे अचानक ऐसे कामुक विचार आने शुरू हो जाते है, ऐसे मे कई बार वह अपने आसपास रह रहे लोगो को भी अपनी कल्पनाओ का हिस्सा बना लेते है जो सही नही है।

हम खुशनसीब हैं कि हमारा मन हमारी सोच और विचारो को नियंत्रित करने मे सक्षम है यदि आप या आपका कोई करीबी भी इन sexual Fantasies के खिलाफ लड़ाई कर रहे है तो इस लेख मे बताए गए तरीको से आप लड़ाई को जीत सकते है तो आइए जानते है क्या है वह तरीके….

सबसे पहले तीन प्रकार की यौन कल्पनाओं को समझें – Understand the three different types of sexual fantasies

1) स्वैच्छिक कल्पनाएँ – Autoerotic fantasies

यह वह यौन विचार हैं जो बाहरी उत्तेजना के बिना naturally होती हैं। आपको उनके बारे में दोषी महसूस नहीं करना चाहिए  और आप उन्हें आसानी से प्रबंधित कर सकते हैं।

 

2) कामुक कल्पनाएँ – Erotic fantasies

Erotic fantasy  एक mental image  या विचारो का पैटर्न है जो किसी व्यक्ति की कामुकता को बढ़ाता है और उत्तेजना पैदा कर सकता है या बढ़ा सकता है।  कामुक कल्पनाएँ  व्यक्ति की कल्पना या स्मृति द्वारा बनाई जा सकती है, और स्वायत्त रूप से या बाहरी उत्तेजना जैसे कामुक साहित्य या पोर्नोग्राफ़ी, एक भौतिक वस्तु, या किसी अन्य व्यक्ति के लिए यौन आकर्षण से उत्पन्न हो सकती है।

 

3) अवैध कल्पनाएँ – Illicit fantasies

इसमे दो लोगो के बीच अमानवीय और अप्राकृतिक यौन कल्पनाएं शामिल है। यह कल्पनाएँ सबसे ज्यादा खतरनाक होती है।

 

अब सवाल आता है की इन कल्पनाओ को कैसे कंट्रोल मे किया जाए। तो आइये जानते है

 

How to Control  Sexual Fantasies? – यौन कल्पनाओ से कैसे बाहर निकले

 

Identifying the Root of Your Fantasies – अपनी यौन कल्पनाओ की जड़ को पहचान करें

अपनी कल्पनाओं को  एक कागच पर लिखे जिस आप बाद मे फाड़ कर फैक सकते है । अपनी fantasies और daydreams को लिखना आपको यह जानने में मदद कर सकता है कि आपकी कल्पनाए आखिर है क्या और ये क्यो आपके दिमाग मे आ रही है । यह एक तरह की creative activity है जो आपको अपने विचारो और मन को analyze करने मे मदद करेगी और consciousness की तरफ लेकर जाएगी। इससे आप कई सवालो के जवाब जान पाएंगे जैसे

किस emotions के कारण ये  कल्पनाए या विचार मन मे आते हैं?”, पास्ट मे घटी किस घटना के कारण यह emotions जन्म ले रही है ?” यह कल्पना मेरे अतीत या वर्तमान मे emotional pain कैसे उत्पन्न करती है? मैं अपनी कल्पनाओं से क्या सीख सकता हूँ? कौन से driving forces मेरे भीतर काम कर रहे हैं जो मुझे इन कल्पनाओ की ओर ले जाते हैं?  मैं उन भावनाओ को कैसे कंट्रोल कर सकता हूँ  जो मुझे Sexual Fantasies  के लिए प्रेरित करते है?

 

how to control fantasy

 

Learn your triggers – ट्रिगर्स की पहचान करें

कभी-कभी, जब आप कोई म्यूजिक या सॉन्ग चला रहे होते हैं या जब आप कोई एक्टिविटी कर रहे होते हैं, जैसे ड्राइविंग करते समय, तो आप खुद को कल्पनाशील पाते हैं। जब भी आप अपने मन को भटकते हुए देखते हैं, तब ध्यान दें कि यह कब होता है और आप क्या कर रहे हैं। यह आपका ट्रिगर हो सकता है। इसके अलावा ओर भी कई triggers हो सकते है जैसे

एक जगह, जैसे कि आपका ऑफिस, शॉवर, या कार।

एक गतिविधि, जैसे मीटिंग  में बैठना या अपने कुत्ते को चलाना।

किसी मूवी को देखकर या कपल्स को देखकर।

जैसे ही अपने ट्रिगर्स की पहचान होती है तो अब जरूरत है उस समय ज्यादा चेतन अवसथा मे रहने की ओर जितना कम हो सके उतना कम कल्पना करने की। इस समय आप अपने आपको दूसरे कामो मे भी engage कर सकते है।

 

Fix relationship problems to stop romantic fantasizing – रोमांटिक कल्पना को रोकने के लिए रिलेशनशिप प्रॉब्लेम्स को सॉल्व करें

यदि आपकी कल्पनाएं अक्सर सेक्स या रोमांस के बारे में हैं, तो आप अपनी वर्तमान रोमांटिक स्थिति से नाखुश हो सकते हैं। चाहे आप सिंगल हों या रिलेशनशिप में, ऐसे areas को खोजने की कोशिश करें जहाँ आप अधूरे हैं ताकि आप बेहतर हो सकें। क्योकि अक्सर हमारे रिश्ते मे अधूरेपन हमे कल्पना की दुनिया मे ले जाते है।

 

परिणाम पर विचार करें- Think about the consequences

जब हमारी कल्पनाए हम पर हावी हो जाती है तो हम परिणाम के बारे मे भूल जाते है लेकिन इनसे लड़ने के लिए इन पर विचार करना बहुत जरूरी है। कुछ सवाल खुद से पूछे जैसे- कहीं आप अपने संबंध तो नही खराब कर रहे? इसके पीछे कौन जिम्मेदार है? इस कल्पना का अंत क्या है? आदि।

Fantasies in hindi

 

Redirect your attention when your mind wanders. – जब आपका मन भटक जाए तो अपना ध्यान वापस लाएँ ।

mindless tasks को करते समय जैसे बर्तन धोने, झाड़ू मारने, कार धोने, टॉयलेट सीट पर इस तरह की  कल्पना करने की सबसे अधिक संभावना होती है। ऐसे मे इस समय हमे अपने मन को कही न कही busy रखना होगा जैसे हम कोई गाना गुनगुना सकते है, किसी family member से बाते कर सकते है या न्यूज़ चला सकते है आदि। इससे आपका मन नहीं भटकेगा और आप कल्पना की दुनियाँ मे जाने से बच पाएंगे।

 

Practice mindfulness meditation – मेडिटेशन

मेडिटेशन आपको अपनी sensations पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करके आपको वर्तमान क्षण तक ले जाती है। एक आरामदायक कुर्सी पर बैठें, और गहरी साँस लें। अपनी सांस की अनुभूति पर ही ध्यान लगाएँ । अगर आपका मन भटकने लगे, तो खुद को रोकें, और अपनी सांस पर फिर से ध्यान देना शुरू करें। शुरुआत मे ऐसा 10 मिनट तक करने की कोशिश करे और जब लगे की अब आप comfortable है तो ओर समय तक इसे करने की कोशिश करें।

आप अपनी awareness को दूसरी sensory details तक भी expand कर सकते हैं जैसे क्या छू रहे हो? क्या सूंघ रहे  है? क्या सुन रहे हो? अपने आस पास की हर बारीकी को महसूस करने की कोशिश करे। यह एक तरह से आपके mind के लिए ट्रेनिंग है जो आपको negative thoughts की तरफ रोकने मे मदद करेगी और आपको thoughts को positivity की तरफ redirect करेगी।

 

Set goals – अपने लिए लक्ष्य तय करें

हमारा मन तब तक इधर उधर भटकता है या कामुक विचारो की कल्पना करता है जब तक हम AIM LESS हो यानि हमारे पास हमारी लाइफ का कोई motive न हो। इसलिए सबसे पहले अपने लिए कुछ goals set करना बहुत जरूरी है। यह goals short terms भी हो सकते है ओर long terms भी। short term goals एक दिन, कुछ दिन या कुछ हफ़्तों के लिए हो सकते है  जैसे gym जाना, weight loss करना, कोई प्रोजेक्ट complete करना आदि और long terms वह है जिसके आस पास आपकी लाइफ घूमती है जैसे बिज़नस, स्पोर्ट्स या ओर कुछ भी।

इस दौरान आपका मन तो भटक सकता है लेकिन आपके goals  के reminder वापस आपको सही direction मे ले जाने मे मदद कर सकते है।

 

पोर्नओग्राफी से बचे-

मनोविज्ञानिकों के अनुसार पॉर्न अवास्तविक अपेक्षाओ को जन्म देता है और और हमे unrealistic sexual Fantasies की ओर ले जाता है। ऐसे मे real life और positivity के लिए जरूरी है की आप अपने फोन और लैपटाप से सभी पोर्नओग्राफी या दूसरी arousal करने वाली सामाग्री को डिलीट कर दे। इस बात मे कोई शक नहीं है यह आदत अचानक से नहीं छूटती, इसके लिए भी कुछ टिप्स जो आप हमारे इस आर्टिक्ल मे जान सकते है – click here

 

यौन संबंध से संबन्धित कहानिया ना पढे-

जब आप कोई कहानी पढ़ते है तो वह आपके दिमाग मे छप जाती है या कहे की कहानियाँ आपके दिमाग मे एक छाप छोड़ देती है । बाज़ार मे या इंटरनेट पर यौन संबंध से संबन्धित बहुत सारी कहानियाँ उपलब्ध है जिन्हे पढ़ने से आपको बचना होगा।

 

दोस्तो इन टिप्स को अपनाकर आप सभी Unwanted sexual Fantasies को कंट्रोल मे कर सकते है हालांकि कई बार यौन कल्पनाओ को काबू करना हमारे बस के बाहर हो जाता है ऐसे मे हम आपको किसी मनोवैज्ञानिक की मदद लेने की सलाह देते है। आप घर बैठ कर भी online  counseling के माध्यम से हेल्प ले सकते है। इसके लिए आपको  Manochikitsa पर जाना है और अपॉइंटमेंट बूक करनी है जिसके बाद मनोवैज्ञानिक आपको कॉल/चैट के माध्यम से बेस्ट ट्रीटमंट देंगे और इस समस्या को जड़ से खत्म कर देंगे।

 

आपको हमारा यह लेख कैसा लगा हमे जरूर बताएं और उन लोगो के साथ इस लेख को जरूर शेयर करे जो खुद से इस तरह की लड़ाई लड़ रहे है। आप अपने सुझाव या सवाल कमेंट के माध्यम से रख सकते है। साथ ही हमारे आने वाले सभी आर्टिक्ल की तुरंत notification पाने के लिए हमे फ्री subscribe करना न भूले।

 

यह भी जाने

Life On Internet क्यो करते है लोग अराजक चीजों पर click

जरूरत से ज्यादा प्यार न बना दे आपको Obsessive love disorder  का शिकार

कैसे पाये हस्तमैथुन की लत से छुटकारा How to Stop Masturbation Addiction in hindi

कैसे करे रिलेशनशिप को ओर भी मजबूत The five love languages in hindi

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Leave a Reply