क्यो सीखे विदेशी भाषा  Scope, Job Opportunities & Career Options in Foreign Languages

ज्ञान कभी भी व्यर्थ नही जाता और हमेशा सीखने वाला व्यक्ति कामयाब भी कहलाता है। अब ऐसे मे सवाल यह उठा है कि क्या सीखा जाए या ऐसा कौन सा ज्ञान प्राप्त किया जाए कि ज़िंदगी आर्थिक रूप से बेहतर हो सकें। देखा जाए तो इस सवाल के कई जवाब हो सकते है लेकिन अगर आप भाषा के क्षेत्र मे इस सवाल का जवाब तालाश रहे है तो यह लेख आपकी काफी मदद कर सकता है। इस लेख मे हम आपको विदेशी भाषा यानि Foreign language  से जुड़े कोर्स और उससे जुड़े रोजगार के बारे मे बताएँगे।

इसके अलावा आप रोजगार से संबधित सवालो के जवाब जानना चाहते है या फिर अपने कैरियर को लेकर परेशान है और समझ नही पा रहे है कि क्या करे औरे क्या नही तो आप कैरियर काउंसेलर से बात करे।  इसके लिए  manochiktsa.com पर जाए और काउंसेलर के साथ एपाइंटमेंट बूक करे।

अगर आप भाषा के क्षेत्र मे कैरियर बनाना चाहते है तो सिर्फ हिन्दी या इंग्लिश ही नही बल्कि कोई भी Foreign language  आपके लिए अच्छा विकल्प हो सकती है। Foreign language मे कैरियर बनाने का अपना ही एक अलग मज़ा है। इससे दूसरे देश मे आपके लिए रोजगार के अवसर खुल जाते है और भाषा से संबन्धित यह रोजगार अच्छे वेतन के साथ साथ आपको समाज मे सम्मान देने का काम भी करते है। तो आइये बात करते है इसके कुछ और पहलुओ पर…

 

क्यो सीखे विदेशी भाषा – career in foreign languages in hindi

इस बात मे कोई शक नही है जैसे भारत ने विदेशो के लिए बाज़ार खोल दिया है ऐसे ही बहुत सारे देश है जिन्होंने पहले ही दूसरे देशो को लिए अपने दरवाजे खोल रखे है।  इससे दो देशो के संबंध तो अच्छे होते ही है साथ ही अंतराष्ट्रीय व्यापार बढ़ता है।  इसके साथ ही पैदा होते है कई सारे रोजगार। व्यापार के अलावा दूसरे देश घूमना उनकी संस्कृति को जानना, उनके ज्ञान-विज्ञान से अपना ज्ञान-विज्ञान बढ़ाना ओर इन सबमे सबसे महत्वपूर्ण है भाषा का ज्ञान होना। केवल भाषा ही है जो एक देश को दूसरे देश से जोड़ती है। दो देशो की अलग अलग भाषा होती है लेकिन अपनी बात कहने के लिए हमे सामने वाले की भाषा का आना बहुत जरूरी होता है।

हालांकि विदेशी भाषा सीखने के और भी कई फायदे है जो अपने देश और जिस देश की हम भाषा सीख रहे है उस पर भी निर्भर करते है।

 

कौन सी भाषा चुने Which is the best foreign language for getting a job?

foreign language मे अपना कैरियर तलाशने वाले स्टुडेट्स इस बात पर अक्सर दुविधा मे आ जाते है कि वह किस देश की भाषा सीखे जिससे उन्हे जल्दी से जल्दी नौकरी और अच्छा वेतन मिले। दरअसल, ज़्यादातर स्टुडेट्स फ़्रेंच, जर्मन, रशिअन, चाइनिस, जेपनीज़ आदि भाषा सीखना चाहते है क्योकि यह सभी विकसित देशो की भाषा है और इनमे रोजगार के अवसर और सैलरी पैकेज ज्यादा होता है। अगर आप इनमे से कोई भाषा चुनते है तो बहुत अच्छी बात है  लेकिन भाषा को चुनते समय हमे यह बात भी ध्यान रखनी चाहिए कि इनके अलावा भी कई देश ऐसे है जो विकासशील है या फिर आने वाले सालो मे भारत से उनके संबंध अच्छे होने की पूरी संभावना है जैसे इज़राइल की भाषा हिब्रू, ग्रीक, मंगोलीयन, भाषा इन्डोनेशिया, थाई  आदि।

ऐसे मे आप कोई भी विदेशी भाषा सीखने से पहले भारत और उस देश की संबंध के बारे मे जान ले और यह भी पता करने की कोशिश करे की उस भाषा मे रोजगार की क्या संभावनाएं है।

 

कैसे पाये एड्मिशन और कौन से कॉलेज जाए  How To Apply For A Foreign Language Courses

एक शोध के अनुसार भारत मे 70% विश्वविद्यालय Foreign Language Courses करवाते है। यह कोर्स पार्ट टाइम और फूल टाइम होते है यानि आप इन विदेशी भाषा मे बीए या एमए की डिग्री भी ले सकते हो या फिर किसी और कोर्स के साथ सर्टिफिकेट या डिप्लोमा भी कर सकते हो। एड्मिशन के लिए बहुत सी यूनिवर्सिटी मे प्रवेश परीक्षा कारवाई जाती है और कुछ यूनिवर्सिटी मे मार्क्स को आधार बना कर एड्मिशन दिया जाता है

 

कौन सी यूनिवर्सिटी जाए,  कितने पैसे लगेंगे

यह एक बड़ा सवाल है जो लोगो के मन मे रहता है कि कौन से कॉलेज मे एड्मिशन ले और पैसे कितने लगेंगे? तो जैसा की ऊपर हमने बताया, 70% यूनिवरसिटिस ऐसी है जिनमे विदेशी भाषये सिखाई जाती है। तो ऐसी मे हमारी कोशिश रहती है की किसी सरकारी कॉलेज मे हमारा एड्मिशन हो जाए क्योकि सरकारी कॉलेज मे फीस कम लगती है। कुछ ऐसे यूनिवर्सिटीस है जो विदेशी भाषा सीखने के लिए सबसे अच्छी मानी जाती है।

Jawaharlal Nehru University

Delhi University,

Banaras Hindu University

University of Calcutta

IGNOU

University of Mumbai

Pune University

 

रोजगार Scope, Job Opportunities & Career Options in Foreign Languages

यदि आप किसी भी भाषा को रोजगार का आधार बनाते है तो ऐसे कई विकल्प है तो अच्छा वेतन देते है और बुद्धिजीवी वर्ग से जोड़ते है और यदि वह कोई विदेशी भाषा है तो विदेश मे काम करने के अच्छे अवसर प्राप्त हो जाते है उदाहरण के लिए॰

अनुवादक (Translator) – यदि आपको कोई भी दो भाषाओ का निपूर्ण ज्ञान है तो आप एक अनुवादक बन सकते है जिसमे किताबों और लेखो का अनुवाद किया जा सकता है और इसके बदले मे एक अच्छा वेतन आपको मिल सकता है।

भाषांतरकार(Interpreter)– दो भाषाओ का लिखित अनुवाद और मौखिक अनुवाद मे काफी अंतर होता है और भाषांतरकार मौखिक अनुवाद की श्रेणी है। एक Interpreter की जरूरत सरकारी गैर सरकारी दोनों संगठनो को होती है जो दूसरे देश से वार्तालाप करते है या उनसे अच्छे संबंध रखते है। ऐसे मे उन दोनों के बीच की कड़ी होती है भाषांतरकार और इस काम के लिए उन्हे ऊंचा मानदेय के साथ साथ दूसरे लाभ भी दिये जाते है।

 

टूरिज़म – अपने देश मे घूमने आने वाले यात्री हो या फिर हमारे देश से दूसरे देश जाने वाले लोग हो दोनों को ही एक टुरिस्ट गाइड की जरूरत होती है और टुरिस्ट गाइड को दोनों भाषाओ का ज्ञान होना जरूरी है ऐसे मे कई टूर एंड ट्रेवल कंपनी या बड़े होटल अपने विदेशी टूरिस्टो के लिए विदेशी भाषा जानने वालों को अच्छे वेतन पर हायर करते है।

 

मेडिकल पेशेंट– बहुत से अमीर लोग अपने देश से दूसरे देशो मे अपने इलाज के लिए जाते है जैसे भारत मे ही थायलैंड, इन्डोनेशिया, अफगानिस्तान ग्रीस और मंगोलिया आदि देशो से इलाज करवाने आते है. ऐसे मे या तो वह अपना ट्रांस्लेटर साथ मे लाते है या फिर जिस देश जा रहे है वही पर किसी ऐसे व्यकित की तलाश करते है जिन्हे उनके देश की भाषा भी आती हो और डॉक्टर की कही बातो को उन्हे समझा सकते। ये काम स्वतंत्र रूप से या फिर अस्पतालो की मदद से किया जाता है जिसमे अच्छे वेतन मिलने की संभावना बहुत ज्यादा रहती है।

 

मल्टी नेशनल कंपनी– भारत और दूसरे देशो की कई ऐसी कंपनिया है जो अपने देश के अलावा दूसरे देशो मे भी व्यापार करती है और उसके लिए उन्हे दो भाषाओ के जानकार की जरूरत समय समय पर पड़ती रहती है।

 

मीडिया या सिनेमा – जिन दो देशो के व्यापार होता है उनमे एक दूसरे की संस्कृति भी आने लगती है और यह संभव होता है मीडिया या सिनेमा के द्वारा। उदाहरण के लिए बच्चो मे सबसे पोपुलर कार्टून डोरेमोन को ले सकते है।  डोरेमोन कार्टून जापान का है और उन्ही की भाषा मे सबसे पहले बनाया जाता है फिर बाद मे उसे इंग्लिश, हिन्दी, चाइनिस और दूसरी भाषाओ मे लाया जाता है।  ऐसी ही कई फिल्मे है जिन्हे कई भाषाओ मे डब किया जाता है। और लोगो को मनोरंजन के साथ साथ रोजगार के अवसर भी मिल जाते है।

 

सरकारी नौकरी– प्राइवेट नौकरी के अलावा उस क्षेत्र मे सरकारी नौकरी भी है लेकिन उनकी संख्या थोड़ी कम है जैसे सरकार उस देश के मिल कर कोई प्रोजेक्ट शुरू करती है या फिर तो उनकी कोशिश यही रहती है कि वह अपने देश के किसी ऐसे व्यक्ति को नौकरी पर रखे जिसे उस दूसरे देश की भाषा आती हो। या फिर एम्बेसी मे भी सरकार द्वारा नौकरी दी जाती है।

 

दोस्तो आपको ये लेख कैसा लगा हमे कॉमेंट बॉक्स मे बताए और कोई सवाल हो तो कॉमेंट बॉक्स मे पूछे।  इसके अलावा अगर आप किसी भी प्रकार की कैरियर काउंसेलिंग  चाहते है तो manochikitsa.com पर जाए और काउंसेलर के साथ अपनी फोन कॉल मीटिंग अभी बूक करे।

 

यह भी जाने

अनुवाद के क्षेत्र में रोजगार और संभावनाएं career in language translation in india

जानिए क्यों जरुरी है करियर का सही चुनाव Career planning in hindi

पत्रकारिता में करियर कैसे बनाये-career in journalism

जानिए कैसे करे करियर का सही चुनाव Career Selection

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

One Response

Leave a Reply